संतकबीर नगर: विद्युतीकरण के नाम पर सरकार द्वारा भले ही करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हो, लेकिन ठेकेदार की उदासीनता के कारण लोगों की जान जोखिम में है। बखिरा में 11 हजार वोल्ट की लाइन को संभालने वाले खंभे को जुगाड़ से खड़ा रखा गया है। जुगाड़ के लिए जिस खंभे को टेढ़ा कर टिकाया गया है, उससे कभी भी बड़ा हादसा होने से इंकार नही किया जा सकता।

बखिरा टाउन की बिजली के लिए खलीलाबाद- मेंहदावल मार्ग पर सड़क के किनारे हरदी, नौरो, बूंदीपार होते हुए 11 हजार की लाइन को जुगाड़ के सहारे बिजली आपूर्ति की जा रही है। जबकि इस विद्युत लाइन के सटे ग्रामीण आबादी को इस कारण कभी भी होने वाले बहुत बड़े खतरे से विभाग अनजान है। खंभे को टेढ़ा कर टिकाए जाने से घटना से इंकार नहीं किया जा सकता है।

ग्रामीण सुरेंद्र कुमार पाठक, रामप्रकाश, दीनानाथ, कन्हैया प्रसाद, जोगिदर मणि का कहना है कि हाइटेंशन बिजली की सप्लाई होने के साथ ठेकेदार द्वारा लापरवाही बरती जा रही है। बूंदीपार काली मंदिर के सामने हाईटेंशन तार के नीचे ग्रामीण क्षेत्रों की सप्लाई है। हवा के झोंके के साथ ढीले तार से कभी भी टच होने से गंभीर दुर्घटना हो सकती है। इंटर कॉलेज के पास लगाए गए

ट्रांसफार्मर को जुगाड़ करके रोका गया है। ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों से मामले को संज्ञान में लेकर कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

अधिशासी अभियंता विद्युत संजय कुमार सिंह का कहना हैकि पोल को ऐसे तैसे खड़ा करने की जानकारी नहीं है। यदि ऐसा है तो कार्रवाई करके समस्या से दूर की जाएगी।

Posted By: Jagran