संतकबीर नगर : बेलहर विकास खंड के लोहरौली ठकुराई गांव में बिजली विभाग की लापरवाही का मामला सामने आया है। एक वर्ष पूर्व गिरे बिजली के पोलों का अभी तक मरम्मत नहीं हुआ। ग्रामीणों को बिना बिजली जलाए बिल चुकाना पड़ रहा है। नाराज ग्रामीणों ने शनिवार को गांव के सार्वजनिक स्थान पर प्रदर्शन करते हुए बिजली के पोलों की मरम्मत कराने की मांग की।

गांव की मीरा देवी, कलावती, अकाली, कैलाशी, सदरूनिशा, बाबूलाल, सुनील, गंगाराम, पिटू, उर्मिला, राजाराम, जाफर ने बताया कि एक वर्ष पूर्व आई आंधी-पानी में गांव में स्थित छह बिजली के पोल गिर गए थे। इसकी सूचना स्थानीय कुशहरा फीडर के अवर अभियंता और मेंहदावल के एसडीओ को दी गई थी। लेकिन आज तक टूटे बिजली के पोल नहीं बदले गए। बिजली का बिना उपयोग किए ही हर माह बिल आ रहा है। इससे सभी को मानसिक तनाव हो रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि एक वर्ष से गांव के लोग अंधेरे में जीवन यापन कर रहे हैं, लेकिन विभाग समस्या दूर करने के लिए कदम नहीं उठा रहा है। इससे बच्चों की पढ़ाई भी प्रभावित हो रही है। सभी ने जल्द से जल्द बिजली के पोल बदलवाने की मांग की है। समस्या दूर नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। इंटरलाकिग सड़क को उखाड़ने पर ग्रामीणों ने किया विरोध

संतकबीर नगर: धनघटा तहसील क्षेत्र के मटौली में तीन वर्ष पूर्व बनी इंटरलाकिग सड़क को उखाड़ कर बनवाने का ग्रामीणों ने विरोध किया। उनका आरोप है कि सरकारी धन के बंदरबांट के लिए अच्छी सड़क को उखाड़ा जा रहा है। भ्रष्टाचार की सूचना देने के बाद भी ब्लाक के अधिकारी चुप्पी साधे हैं। इससे उग्र हुए ग्रामीणों ने शनिवार को धनघटा तहसील पर प्रदर्शन कर मामले की जांच कराने की मांग की।

प्रदर्शन कर रहे मटौली के प्रदीप यादव, विशाल सिंह, भालचंद यादव, राममिलन यादव, नागेंद्र, राधेश्याम ने कहा था कि गांव में पूर्व प्रधान ने तीन वर्ष पूर्व इंटरलाकिग का कार्य कराया था। सड़क अभी अच्छी है, लेकिन उसी सड़क को वर्तमान प्रधान उखाड़कर सरकारी धन का बंदरबांट कर रहे हैं। ग्रामीणों ने कहा कि नियमानुसार पांच वर्ष के पहले किसी भी सड़क को उखाड़ा नहीं जा सकता है। लेकिन ब्लाक के अधिकारियों को मिलाकर सरकारी धन के बंदरबांट का खेल खेला जा रहा है। शिकायत के बाद भी कोई सुनवाई नहीं होने पर गांव के लोग तहसील पर प्रदर्शन करने पहुंचे थे। इस संबंध में एसडीएम योगेश्वर सिंह ने कहा कि मामला संज्ञान में आया है। इसकी जांच करवाई जाएगी। ग्रामीणों को न्याय मिलेगा।

Edited By: Jagran