संतकबीर नगर: समर्थन मूल्य योजना के तहत किसानों से एक नवंबर से 29 फरवरी 2020 तक चयनित केंद्रों पर धान खरीद होनी है। पहले दिन यानी शुक्रवार को एक छटाक धान की खरीद नहीं हो पाई। अधिकांश केंद्रों पर सन्नाटा पसरा रहा तो वहीं कई केंद्र सख्ती के बाद भी बंद रहे।

किस खरीद केंद्र पर इस दिन क्या रही स्थिति, पेश है रिपोर्ट

मेंहदावल के कुस्महां स्थित मार्केटिग का केंद्र खुला मिला। यहां एसएमआइ संतोष त्रिपाठी अपने कर्मियों के साथ मौजूद मिले। धान बेचने के लिए इस केंद्र पर एक भी किसान नहीं आए थे। जबकि सांथा में भी क्रय केंद्र खुला मिला लेकिन किसानों के न आने से इस केंद्र पर भी सन्नाटा पसरा रहा। केंद्र प्रभारी शिशिर सिंह ने बताया कि अभी तक धान बेचने के लिए किसी भी किसान ने संपर्क नहीं किया है।

धनघटा तहसील क्षेत्र में मार्केटिंग के पौली, हैंसर बाजार, धनघटा के अलावा मानपुर, नाथनगर, कोदवट आदि केंद्रों के प्रभारी सुबह नौ बजे से लेकर शाम के पांच बजे तक धान खरीदने के लिए किसानों का इंतजार करते रहे। इस दिन एक भी किसान इन केंद्रों पर धान बेंचने के लिए नहीं आए। क्षेत्रीय विपणन अधिकारी अखिलेश कुमार ने कहा कि अधिकांश किसान धान की फसल नहीं काट पाए हैं, इसलिए यह स्थिति है।

मार्केटिग के नौवागांव स्थित केंद्र पर अब्दुल कलाम, अब्दुल मोतल्लिव,नसीर अहमद, इकबाल अहमद, राकेश कुमार, संदीप कुमार आदि किसान पहुंचे। ये यहां पर धान बेचने के लिए नहीं अपितु धान तौलवाने के लिए टोकन लिए। विपणन अधिकारी निशा वर्मा ने कहा कि उन्हें 12 हजार क्विंटल धान खरीदने का लक्ष्य मिला है। केंद्र पर बैठने, पीने के लिए पानी सहित जरुरी सुविधाएं उपलब्ध है।

बघौली ब्लाक के जसवल-भरवलिया स्थित मार्केटिग के केंद्र पर मार्केटिग इंस्पेक्टर(एमआइ)किसानों के इंतजार में समय काटते हुए दिखे। यहां पर भी किसानों के न आने से पूरे दिन सन्नाटा पसरा रहा। मार्केटिग इंस्पेक्टर अनिल आर्या ने बताया कि उनके केंद्र पर इलेक्ट्रानिक तराजू, पंखी, बोरा सहित जरुरी सामान उपलब्ध हैं।

जिले में कुल किसान- लगभग ढाई लाख

धान की फसल -93 हजार हेक्टेयर में

खरीद का लक्ष्य -45 हजार एमटी

कुल खरीद केंद्र -45

समर्थन मूल्य-सामान्य धान: 1,815 रुपये प्रति क्विटल

,, -ग्रेड-ए धान : 1,835 ,, ,,

पल्लोदारी : 20 रुपये ,,

फिलहाल फसल कटी नहीं है। कम से कम दस दिन बाद ही खरीद शुरू होगी। पिछले साल लक्ष्य की तुलना में 83 फीसद धान की खरीद हुई थी, इस बार इससे अधिक खरीदने का लक्ष्य है। रामानंद जायसवाल-डिप्टी आरएमओ

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस