संतकबीर नगर: एडीएम वित्त एवं राजस्व रणविजय सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को बीएलओ व सुपरवाइजरों की बैठक हुई। इसमें ऐसे बीएलओ व सुपरवाइजरों को बुलाया गया था, जिनके बूथ पर एक भी नहीं और जहां केवल एक से पांच मतदाताओं की डाटा फीडिग हुई है। कुल 53 बीएलओ बुलाए गए थे लेकिन इसके तुलना में केवल 26 बीएलओ बैठक में शामिल हुए। वहीं 27 बीएलओ बैठक में अनुपस्थित रहे। इस पर एडीएम ने गैरहाजिर रहने वाले 27 बीएलओ पर विभागीय कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

एडीएम ने कहा कि चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश पर एक सितंबर से मतदाता पुनरीक्षण के लिए विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसमें मृतक, डुप्लीकेट, शिफ्टेड वोटरों का नाम सूची से हटाने के अलावा एक जनवरी 2020 में जिन मतदाताओं की आयु 18 साल या इससे अधिक हो रही है, उनका नाम जोड़ना था। अभियान का मुख्य उद्देश्य मतदाता सूची को त्रुटिरहित बनाने की है। हैरत की बात यह है कि ऐसे कई बूथ हैं, जहां पर अब तक एक भी मतदाता की फीडिग नहीं हुई है, वहीं कुछ बूथ ऐसे हैं, जहां पर केवल एक से पांच मतदाताओं की फीडिग हुई है। ऐसे बूथों के बीएलओ व सुपरवाइजरों को चार दिन की मोहलत दी जा रही है। इस अवधि में प्रगति में सुधार न होने पर सख्त कार्रवाई होगी। बैठक में तहसीलदार शशांक शेखर राय व वंदना पाण्डेय, एडीईओ ओम प्रकाश, निर्वाचन कार्यालय के मो. हलीम, मो. सलीम के अलावा बीएलओ व सुपरवाइजर उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप