संतकबीर नगर: जनपद के दस सरकारी अस्पतालों में गुरुवार को 4892 लोगों को कोरोनारोधी टीके लगाए गए। सर्वाधिक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र(सीएचसी)मेंहदावल में तथा सबसे कम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र(पीएचसी) बेलहरकलां में लोगों को यह टीके लगे। इसको लेकर युवाओं में काफी उत्साह दिखा। टीका लगने के बाद ये यहां से मुस्कराते हुए गए।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने गुरुवार को जनपद के 3850 लोगों को कोरोनारोधी टीका लगाने का लक्ष्य रखा था। इसकी तुलना में जिला अस्पताल, छह सीएचसी व तीन पीएचसी में 4892 लोगों को कोरोनारोधी टीके लगाए गए। इसमें 18 साल से 44 साल के बीच के 3294 लोगों को टीके लगे। वहीं 45 से 60 साल के बीच के 692 को पहला व 481 लोगों को दूसरा डोज लगा। जबकि 60 साल से ऊपर के 281 को पहला व 144 लोगों को दूसरा डोज लगा। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. एस रहमान ने कहा कि लक्ष्य की तुलना में अधिक लोगों को टीका लगाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम लगी हुई है। किस अस्पताल में कितने लोगों को लगे टीके ?

अस्पताल : लगे टीके

सीएचसी खलीलाबाद: 870

पीएचसी पौली : 320

सीएचसी नाथनगर : 640

सीएचसी सांथा : 460

सीएचसी सेमरियावां : 360

सीएचसी मेंहदावल : 880

सीएचसी हैंसर बाजार : 515

जिला चिकित्सालय: 330

पीएचसी बेलहरकलां : 187

पीएचसी बघौली : 330

कुल योग : 4892 जांच में एक पाजिटिव और 1636 मिले निगेटिव

संतकबीर नगर : कोरोना मुक्त हो चुके जनपद में पिछले दो दिनों से संक्रमित मिल रहे हैं। गुरुवार को आई जांच रिपोर्ट में एक कोरोना पाजिटिव मिला है, जबकि 1636 की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कोरोना आने के बीच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को उम्मीद है कि यदि हम कोविड नियमों का पालन करते रहे तो जिले में इसका असर कम होगा। जिले में अब तीन एक्टिव केस हैं। बीते जून से ही कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी आई है। जुलाई माह में अभी तक 15 बार कोई संक्रमित नहीं मिला है।

अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. मोहन झा ने बताया कि जनपद में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से घटी है। जिले में अभी तक 8155 संक्रमित मिल चुके हैं, जिसमें से 8053 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं। जनपद का कोई मरीज किसी भी अस्पताल में भर्ती नहीं है। जो संक्रमित हैं वह घरों में रहकर इलाज कर रहे हैं। जांच के लिए लखनऊ केजीएमसी भेजे गए आरटीपीसीआर की 1020 लोगों की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमितों की संख्या घटने के बाद भी लोगों को लापरवाह नहीं होना है। कोविड नियमों का पालन करना होगा। बिना मास्क के घर से न निकलें। भीड़भाड़ से दूरी बनाकर ही हम कोरोना से सुरक्षित रह सकते हैं।