जेएनएन, बहजोई: भारतीय जनता पार्टी का प्रदेश महामंत्री बताकर नेतागिरी कर रहे एक युवक को एसपी के सामने धमक दिखाना भारी पड़ गया। वह एसपी को अपनी बातों से चकमा नहीं दे सका और फर्जी पदाधिकारी बनकर एक युवती के अपहरण के मामले में आरोपितों के बचाव में सिफारिश करते समय पकड़ा गया। जिसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करते हुए न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

पुलिस अधीक्षक चक्रेश मिश्र बहजोई स्थित अपने कार्यालय पर जन शिकायतों की सुनवाई कर रहे थे कि मंगलवार की दोपहर को करीब तीन बजे अचानक एक नेता का कार्यालय में आगमन हुआ और कुर्सी पर बैठते ही एसपी के समक्ष सवाल दाग दिया कि भाजपा सरकार में ऐसे ही अत्याचार होता रहेगा। एसपी ने उनसे पूछा कि परेशानी क्या है, तपाक से जवाब दिया कि चन्दौसी में एक युवती के अपहरण के मामले में पुलिस ने दो व्यक्तियों को झूठे आरोप में ही जेल भेज दिया। साथ ही तीसरे अन्य व्यक्ति को भी झूठे आरोप में जेल भेजने की तैयारी की जा रही है। जब इस मामले से नेताजी का संबंध पूछा गया तो उन्होंने सत्ता की हनक दिखाई बोले भाजपा के प्रदेश महामंत्री हैं, स्वयं का नाम राहुल निवासी कस्बा इस्लाम नगर जनपद बदायूं बताया। एसपी से सवाल दागा केस से मेरा क्या संबंध इस बारे में क्यों पूछा गया। एसपी ने उनसे स्थानीय भाजपा नेताओं को लेकर जानकारी मांगी तो वह नहीं दे सका। एसपी ने उसके वरिष्ठ पदाधिकारियों के बारे में पूछा तो वह नहीं बता पाए। उन्हें शक हुआ तो उसे बैठा लिया। तभी फर्जी प्रदेश महामंत्री बनकर आया युवक बाहर निकलने लगा। इसी दौरान एसओजी प्रभारी मनोज कुमार वर्मा भी आ गए। इसके बाद युवक का मोबाइल चेक किया गया। पुलिस का दावा है कि कई व्यक्तियों को धमकाकर नेतागिरी कर रौब दिखाना, पैसे ऐंठने की रिकार्डिंग भी पाई गई। इसके बाद युवक पर रिपोर्ट दर्ज की गई। एसपी को पहले भी मिली थी इस संबंध में शिकायत

बहजोई: फर्जी प्रदेश महामंत्री के द्वारा अलग-अलग थानों और अलग-अलग कार्यालय में धमकाकर लोगों की सिफारिशें करने की शिकायतें एसपी को पहले ही मिल चुकी थीं। इस संबंध में उन्होंने पहले ही भाजपा के उच्चाधिकारियों के माध्यम से जानकारी हासिल कर ली थी। यह संयोग ही था कि अब तक प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस के थाना स्तर के अधिकारियों को चकमा देकर अपनी हनक दिखाने वाला फर्जी प्रदेश महामंत्री अचानक से एसपी के दफ्तर में पहुंचा और उनके ही सामने अपनी धमक दिखाने लगा।

एक युवक हमारे कार्यालय में आया और स्वयं को भाजपा का प्रदेश महामंत्री बताने लगा। युवती के अपहरण के मामले में आरोपितों की सिफारिश कर रहा था। जब हमें शक हुआ तो हमने जानकारी कराई तो वह फर्जी निकला। इस संबंध में बहजोई कोतवाली में उसके विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराते हुए उसे न्यायालय पेश किया गया है।- चक्रेश मिश्र, पुलिस अधीक्षक, सम्भल।

Edited By: Jagran