जेएनएन, सौंधन (सम्भल ) : करवा चौथ पर पति की दीर्घायु के लिए पत्नी ने व्रत रखा था। वह करवा चौथ के चांद का दीदार कर पातीं, इससे पहले ही घर का चांद उनकी आंखों से ओझल हो गया। उस मासूम के ऊपर ईटों की चट्टी गिर गई। जिसमें वह बुरी तरह से घायल हो गया। इससे उसकी दर्दनाक मौत हो गई। मासूम की मां सुंदरी भी बिलख-बिलख कर रोने लगी और कहने लगीं कि मैं चांद को तो नहीं देख पाई, लेकिन मैंने आज अपने घर के चांद को खो दिया। इन शब्दों को सुनकर गांव के हर ग्रामीण की आंखे नम थीं। घर में दुखों का पहाड़ टूट चुका था।

बता दें कि नखासा थाना क्षेत्र के गांव केशोपुर भंडी में दो छात्र अपने खेत से रविवार देर शाम वापस लौट रहे थे। जहां रास्ते के किनारे गांव के ही एक व्यक्ति की ईंटों की चट्टी लगी हुई थी। जैसे ही दोनों छात्र सड़क किनारे लगी चट्टी के नजदीक आए तभी चट्टी उनके ऊपर गिर गई, जिसके नीचे दबकर दोनों छात्र बुरी तरह घायल हो गए। इसमें एक की मौत हो गई व दूसरे को घायल अवस्था में जिला अस्पताल भर्ती कराया गया है।

नखासा थाना क्षेत्र के गांव केशोपुर भंडी निवासी नौ वर्षीय लक्की पुत्र चंद्रभान सिंह गांव के ही सरकारी स्कूल में कक्षा तीन का छात्र था। जो अपने साथी विशेष पुत्र वीर सिंह के साथ रविवार देर शाम अपने खेत से वापस लौट रहा था। जैसे ही दोनों गांव के नजदीक पहुंचे तभी रास्ते के निकट लगी ईंटों की चट्टी उनके ऊपर गिर गई। इससे दोनों बुरी तरह घायल हो गए। जैसे ही चट्टी के गिरने की आवाज आसपास के ग्रामीणों को आई तो वह मौके पर पहुंचे। जानकारी मिलने पर स्वजन दोनों बच्चों को उपचार के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां डाक्टरों की टीम ने लक्की को मृत घोषित कर दिया। वहीं, विशेष का जिला अस्पताल में ही इलाज चल रहा है, जिसकी हालत भी गंभीर है। गांव के ही चंद्रसेन की ईंटों की चट्टी पिछले छह महीने से रास्ते के किनारे लगी हुई है, जिसे गांव के लोगों ने कई बार उसे हटाने के लिए कहा था। मगर उस चट्टी को नहीं हटाया गया था, जिसका देखने को मिल गया। छात्र की मौत से परिवार में कोहराम मच गया है। सूचना पर डायल 112 व स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंच गई थी।

Edited By: Jagran