जेएनएन, सम्भल: आपरेशन कायाकल्प के तहत प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों को बेहतर बनाया जाना था, लेकिन विद्यालयों को बेहतर बनाने के बजाए उसमें भी अधिकारियों ने धांधली करने का तरीका निकाल लिया। विभाग द्वारा प्राप्त की एक सूची के अनुसार सम्भल ब्लाक के 25 विद्यालय ऐसे हैं, जिनमें कार्य होना दिखाकर दो करोड़ चार हजार 764 रुपये निकाल लिए गए। हालांकि अब कुछ विद्यालयों में काम शुरू हुआ है। उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त करने के भले ही कितने दावे करे, लेकिन भ्रष्टाचार खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। सरकार बेहतर योजनाओं के माध्यम से लोगों को लाभ पहुंचाने का प्रयास करती है, लेकिन उन योजनाओं का लाभ जनता को नहीं मिल रहा है। जिले के ऐसे तमाम विद्यालय है जो जर्जर स्थिति में है। ऐसे ही विद्यालयों को बेहतर करने के लिए शासन ने आपरेशन कायाकल्प के तहत विद्यालयों में मरम्मत कार्य कराने के निर्देश दिए थे।

यह कार्य ग्राम पंचायतों को करना था। इसके तहत सम्भल ब्लाक के 83 विद्यालयों में ग्राम पंचायतों ने कागजों में काम करा दिया। हालांकि जमीनी हकीकत यह कहती है कि 83 में से 25 विद्यालयों में काम हुआ ही नहीं है और कार्य दिखाकर दो करोड़ चार हजार 764 रुपये निकाल लिए। यह सूची शिक्षा विभाग तक भी पहुंची। उसके बाद शिक्षा विभाग न सत्यापन कराया तो पता चला कि 25 विद्यालयों में काम नहीं हुआ है।

अब कुछ विद्यालयों में काम शुरू

सम्भल: विभाग को इस बात की जानकारी हो गई है कि जो धांधली की गई है उसकी सूची मीडिया तक पहुंच गई है। ऐसे में अब विभाग ने कुछ विद्यालयों में काम शुरू कर दिया है। उदाहरण के तौर में खानपुर बंद में पहले ही काम होना कागजों में दिखा दिया गया था, लेकिन यहां पर काम 20 अगस्त के बाद शुरू हुआ है। इन विद्यालयों में नहीं हुआ काम

सम्भल: गांव नवादा के जूनियर हाईस्कूल, भवांच के प्राथमिक विद्यालय, मोहम्मदपुर मालनी का प्राथमिक विद्यालय, खग्गूपुरा का प्राथमिक विद्यालय, शाहपुर चमारान का प्राथमिक विद्यालय, ततारपुर मझरा बटौवा, बटोला, मोहम्मदपुर विशनपुर, सुजातपुर, फुलसिघा , खानपुर बंद का प्राथमिक विद्यालय, शरीफपुर, भड़बाड़ा, ग्राम पंचायत में गुलालपुर प्राथमिक विद्यालय, अतौरा जूनियर हाईस्कूल, चितावली का प्राथमिक विद्यालय, फत्तेहपुर देव, सलारपुर कला, ईसापुर सुनवारी, भारतल सिरसी, अख्तयारपुर ठिलुपुरा, सलखना्, लखौरी जलालपुर, ज्ञानपुर सिसौना, कटौनी स्थित विद्यालयों में काम नही हुआ है। शरीफरपुर, सिंहपुरसानी, कुरकावली समेत कई विद्यालयों में काम नहीं हुआ है। विद्यालयों के प्रधानाचार्य ने लिखकर दिया है कि हमारे विद्यालय में कोई कार्य नहीं हुआ है। हमारे विद्यालय में सीसी टाइल्स का कार्य दिखाकर दो लाख से अधिक की धनराशि निकाली गई है, यह जानकारी मुझे विभाग की तरफ से प्राप्त हुई।

प्रदीप कुमार, प्रधानाध्यापक प्राथमिक विद्यालय शरीफपुर

कोई कार्य विद्यालय में नहीं हुआ है, लेकिन 20 अगस्त के बाद से विद्यालय में कार्य हुए। कमरों की मरम्मत हुई है और टाइल्स लगाई गई है। विभाग की तरफ से जब सूचना मांगी गई थी उस समय तक कोई कार्य नहीं हुआ था।

अजय कुमार, प्रधानाध्यापक प्राथमिक विद्यालय, खानपुरबंद

विद्यालय में काम हुआ है। इस बात की जानकारी मुझे है, लेकिन बिना काम कराए धनराशि निकाल ली गई इस बात की जानकारी मुझे नहीं है। इस मामले की जांच कराई जाएगी। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

सत्येंद्र श्रीवास्तव, बीडीओ सम्भल

Edited By: Jagran