सम्भल (अंकित गोस्वामी)। आखिरकार 9 दिन बाद दुष्कर्म पीडिता अस्पताल में ङ्क्षजदगी और मौत के बीच चल रही जंग हार गई। बिडंबना यह रही कि किशोरी के इस आखिरी सफर में उसका कोई अपना नहीं था। कहने को तो मौसा और मौसी अस्पताल में मौजूद थे, लेकिन किशोरी की मां और उसके मासूम भाई वहां पर नहीं थे। वजह यह थी कि कि इस हादसे के बाद किशोरी की मां इस कद्र सदमे में आई कि अभी भी वो बीमार चल रही है। भाई इतने छोटे है कि उनको इस हादसे की वजह ही नहीं मालूम है। जबकि मासूमों का पिता कई साल पहले ही बीमारी के कारण इस दुनिया से रुखसत हो चुका है।

यह है पूरा मामला

जिंदगी के हर सफर में अपनों का साथ बहुत जरूरी होता है। चाहें वो पहला कदम हो या आखिरी। सभी को लगता है कि इस सफर में उनका हर कोई अपना कंधे से कंधा मिलाकर उनके साथ खड़ा हो। सुख दुख की हर घडिय़ों को वह मिल जुलकर बांटे, लेकिन कई ऐसे भी बदनसीब होते है जिन्हें ङ्क्षजदगी में अपनों का तो साथ मिलता है। मगर आखिरी सफर में अकेले हो जाते है। कुछ ऐसा ही हुआ नखासा थाना क्षेत्र के एक कस्बा निवासी दुष्कर्म पीडि़ता किशोरी के साथ। जिसने अपनी सुनहरी ङ्क्षजदगी के सपने देखने शुरू किए थे, लेकिन तभी उसकी किस्मत पर संकट के बादल छा गए। इसकी शुरूआत तो तभी हो गई थी जब उसके पिता का निधन बीमारी के कारण हो गया था। किसी तरह उसकी मां ने किशोरी के साथ ही उसके भाइयों को पालने का जिम्मा उठाया। कुछ समय बाद उनकी ङ्क्षजदगी फिर पटरी पर लौटने लगी। परन्तु किस्मत को शायद कुछ ओर ही मंजूर था। 21 नवंबर की रात किशोरी के लिए काली रात बनकर आई। वह घर में अकेली थी और मां दवाई लेने के लिए गई थी। बस इसी बात का मौका उठा लिया पड़ोस में ही रहने वाले एक हवस के शिकारी ने। घर में घुसकर दुष्कर्म किया और ङ्क्षजदा जलाकर मारने का प्रयास किया। शोर शराबा होने पर जब लोग मौके पर आए तो किशोरी को गम्भीर हालत में आग से जलते हुए देखा। आनन फानन में किशोरी को जिला अस्पताल ले जाया गया। जहां से उसे दिल्ली के लिए रेफर कर दिया गया। करीब 9 दिन तक ङ्क्षजदगी और मौत के बीच जंग लडऩे वाले किशोरी की आंखें शनिवार की सुबह हमेशा के लिए बन्द हो गई।  

मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंचा था मामला

नखासा थाना क्षेत्र के एक कस्बे में किशोरी से दुष्कर्म का मामला मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंचा था। इसके बाद मुख्यमंत्री ने संज्ञान लिया तो अफसर मौके पर पहुंचे। तत्काल ही तीन टीमें गठित की। खुद आईजी रमित शर्मा, डीएम अविनाश कृष्ण ङ्क्षसह, पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने आरोपित को भी गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

आरोपी के खिलाफ होगी एनएसए की कार्रवाई

जिले के नखासा थाना क्षेत्र में किशोरी से दुष्कर्म करने वाले आरोपित की मुश्किलें अब बढ़ती जा रही है। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ कठोर कार्रवाई तो शुरूआत से की थी, लेकिन अब एनएसए के तहत भी कार्रवाई होनी तय हो गई है। पुलिस अफसरों का कहना है कि इस मामले में एनएसए की कार्रवाई होगी। साथ ही मामले की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई कराई जाएगी। 

पुलिस निगरानी के बीच होगा दफन

नखासा थाना क्षेत्र में हुई दुष्कर्म पीडि़ता की मौत के बाद परिवार में कोहराम मचा है। रविवार को उसका पुलिस निगरानी के बीच दफन होगा। उसकी मौत के बाद परिजन दहाड़े मार माकर रो रहे है। किशोरी की मौत की सूचना मिलते ही दिन में ही पुलिस मौके पर पहुंच गई थी।  

दोषी पर कड़ी कार्रवाई के लिए मांग उठा रहे लोग

दुष्कर्म पीडि़ता के आरोपित पर ठोस कार्रवाई के लिए लोग मांग उठा रहे है। तमाम सामाजिक संगठनों के लोग इसके लिए आवाज उठा रहे है। उनका कहना है कि इस घटना ने सभी लोग आहत है। कार्रवाई के लिए पुलिस अफसरों को कड़े कदम उठाने चाहिए। 

                   

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस