सम्भल, जेएनएन। स्वास्थ्य विभाग की ओर से सघन क्षय रोग खोज अभियान की शुरूआत की जा रही है, जिसमें जिले की दो लाख की आबादी के बीच घर घर जाकर इस सर्वे के कार्य को किया जाएगा। जहां से लिए गए सैंपल को जांच के लिए भेजा जाएगा और रिपोर्ट के बाद ही पीडि़तों का उपचार किया जाएगा।

स्वास्थ्य विभाग कर रहा प्रयास 

क्षय रोग की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से पुरजोर प्रयास किए जा रहे है, जिससे क्षय रोग पर पूर्णत अंकुश लगाया जा सके। स्वास्थ्य विभाग की ओर से क्षय रोग टीवी की रोकथाम के लिए सघन क्षय रोग खोज अभियान की शुरूआत की है, जिसमें घर घर जाकर क्षय रोगियों की पड़ताल की जाएगी और ऐसे में यदि कोई संक्रामित रोगी मिलता है तो उसका उपचार विभाग की ओर से निश्शुल्क किया जाएगा। कोर पीसीआई के डीएमसी मोहम्मद अनस ने बताया कि सघन क्षय रोग खोज अभियान 17 फरवरी से 29 फरवरी तक चलेगा और इस कार्य के लिए विभाग की ओर से 90 टीमों के साथ 20 सुपरवाइजरों को लगाया गया है, जिसमें आशा, आंगनबाड़ी व सीएमसी को लगाया गया है। 

जांच के बाद शुरू होगा इलाज 

जिले के सम्भल नगर व ग्रामीण क्षेत्र के साथ ही जुनावई व रजपुरा ब्लाक की लगभग 50 हजार की जनसंख्या में इस सर्वे के कार्य को किया जाएगा। इस सर्वे के दौरान टीम में शामिल कर्मचारी संदिग्ध रोगी के बलगम का नमूना लेकर उसे जांच के लिए लैब भेजेंगे। जहां से रिपोर्ट आने के बाद उसका उपचार किया जाएगा। सम्भल ग्रामीण के लिए सिरसी, मुर्करबपुर, हजरतनगर गढ़ी, बराही, मिलक सिरसी व फुलङ्क्षसघा गांव को चुना गया है। 

लक्षण सामने आने पर कराएं जांच 

सर्वे के दौरान की गई जानकारी में यदि किसी व्यक्ति को दो सप्ताह से खांसी, भूख न लगने, धीमा बुखार रहने, वजन कम होने जैसे लक्षण की बात सामने आती है तो उसके बलगम को जांच के लिए भेजा जाएगा। यदि वह व्यक्ति टीवी से ग्रसित पाया जाता है तो उसका उपचार स्वास्थ्य विभाग की ओर से कराया जाएगा और सरकार की ओर से निक्षय अभियान के तहत प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। 

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस