सम्भल, जेएनएन। लगभग दो माह पहले हुए बवाल के दौरान पकड़े गए युवक को बोर्ड परीक्षा के प्रवेश पत्र के लिए इधर उधर भटकना पड़ा। दरअसल कई दिनों तक अनुपस्थित रहने के कारण उसका नाम कालेज से अलग कर दिया था। इसके अलावा कालेज ने प्रवेश पत्र भी देने से इन्कार कर दिया था। उसने प्रवेश पत्र हासिल करने के लिए तमाम तरह की कोशिशों भी कर ली थी लेकिन बात नहीं बन पाई। बाद विधायक पुत्र के हस्तक्षेप के बाद उसे प्रवेश पत्र मिल सका। 

यह है पूरा मामला 

मालूम हो कि 19 व 20 दिसंबर को सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया था, इस दौरान बवाल हो गया था। दूसरे दिन चंदौसी चौराहे पर प्रदर्शन का विरोध करने पर पुलिस पर पथराव कर दिया था। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए कई लोगों को जेल भेज दिया था। पुलिस कार्रवाई के दौरान पकड़े गए अधिकांश लोग युवा थे, जिसमें से कुछ पढ़ाई कर रहे है। पकड़े गए कई युवक अभी कुछ दिन पहले ही जमानत पर रिहा होकर वापस आए हैं। 

अनुपस्थित रहने पर आई समस्या 

जमानत पर रिहा होकर आए नगर के मुहल्ला मियां सराय निवासी युवक क्षेत्र के कालेज से अपना बोर्ड परीक्षा का प्रवेश पत्र लेने के लिए गया तो उसे काफी दिनों तक अनुपस्थित रहने के कारण स्टाफ की ओर से प्रवेश पत्र देने से मना कर दिया गया। इस पर परिजनों ने विधायक पुत्र सपा नेता सुहैल इकबाल से प्रवेश पत्र दिलवाने गुहार की। सपा नेता, छात्र व उनके पिता के साथ कालेज पहुंचे और वहां प्रधानाचार्य से मुलाकात कर लड़के को प्रवेश पत्र दिलाया।  

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस