जेएनएन, सम्भल: वर्ष 2017 से चल रही गबन की जांच अब जाकर पूरी हुई है। जांच कमेटी ने अब माना है कि पूर्व पालिकाध्यक्ष ने अपने कार्यकाल के दौरान पांच वाहन खरीदे। इस दौरान वाहन खरीदने में 42 लाख 21 हजार रुपये की धांधली की है। इस मामले में पुलिस ने पूर्व पालिकाध्यक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। नगर पालिका परिषद के पूर्व सभासद मुकेश शुक्ला ने 18 दिसंबर 2017 को मुख्यमंत्री प्रकोष्ठ पोर्टल पर पत्र द्वारा पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष हकीम कौशल अहमद के खिलाफ वित्तीय अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई थी। इसमें पालिका अध्यक्ष सहित तत्कालीन युवा अन्य कर्मचारियों पर अधिकार क्षेत्र से विधि का लाखों की छति करने का आरोप लगा था जिसका संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री पोर्टल द्वारा शासन लोक शिकायत प्रथम में नगर विकास विभाग द्वारा जांच कर कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। यह जांच 15 दिसंबर 2017 को जिलाधिकारी कार्यालय पर पहुंची 8 फरवरी 2018 को जांच कमेटी गठित की गई। 15 दिन में जांच पूरी करने को कहा जांच भी ठंडे बस्ते में चली गई। पूर्व सभासद ने फिर रिमाइंडर लगाया 3 जुलाई 2018 को यह जांच परिवहन विभाग को उपलब्ध हुई तत्कालीन जांच कमेटी के अध्यक्ष प्रतिभा का स्थानांतरण हो जाने की वजह से 18-5-2019 को नई कमेटी गठित की गई 19 जनवरी 2021 को उस सचिव ने वित्तीय अनियमितताएं सही पाए जाने की रिपोर्ट लगी 18 जनवरी को आरोप दाखिल किए गए जिलाधिकारी के निर्देश पर जांच की गई। परिवहन विभाग ने पालिका द्वारा खरीदे गए वाहन डंपर 407 लाइट लिफ्टर स्काट ब्लैक होल लोडर कूड़ा उठाने वाली गाड़ी 407 मैक्स गाड़ी ब्लूग्राउंड गाड़ी खरीदने पर वित्तीय अनियमितताओं का आरोप लगा था। परिवहन विभाग द्वारा तत्कालीन पालिका अध्यक्ष सहित अन्य कर्मचारियों को नोटिस अक्टूबर माह में जारी किया था। जब से लगातार जांच चल रही थी। अब जांच टीम ने माना किया पूर्व पालिकाध्यक्ष कौशर अहमद ने अपने कार्यकाल के दौरान पांच वाहन खरीदे। इसमें 42 लाख 21 हजार रुपये की धांधली की गई। जांच में धांधली की पुष्टि होने के बाद सोमवार को ईओ रामपाल सिंह ने पूर्व पालिकाध्यक्ष के खिलाफ कोतवाली पुलिस को तहरीर दी। पुलिस ने गबन की धाराओं में पूर्व पालिकाध्यक्ष कौशर अहमद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। कोतवाल पंकज लवानियां ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Edited By: Jagran