चन्दौसी: कोतवाली क्षेत्र में लूट के बाद दो महिला समेत तीन लोगों की गला रेतकर हत्या कर दी गई। दो दिन तीनों के शव घर के अंदर पड़े रहे। शुक्रवार की रात पड़ोसी घर के अंदर जाकर देखा तो उसकी चीख निकल गई। सूचना मिलने पर पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। कई थानों की पुलिस के साथ एसपी, एएसपी, सम्भल सीओ मौके पर पहुंच गए। शवों को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। जनपद बुलंदशहर के महमूदपुर निवासी स्व इंस्पेक्टर सत्यपाल की पत्नी संतोष (60) पिछले कई वर्षों से चन्दौसी में रहती थी। एक वर्ष पहले संतोष ने नगर के मुहल्ला तेग बहादुर कालोनी में मकान बनाया था। संतोष देवर केसर (55) व नौकरी के साथ नए मकान में एक माह पहले सिफ्ट हुई थी। संतोष ¨सह का बेटा भी सब इंस्पेक्टर था और उसकी सड़क हादसे में मौत हो चुकी है। बेटी रश्मि व रचना की थी शादी कर दी थी। बड़ी बेटी पिछले दो दिन से अपनी मां संतोष को फोन कर रही थी, लेकिन फोन रिसीव नहीं हो रहा था। ऐसे में रश्मि ने शुक्रवार की रात 8 बजे रिश्तेदार अनुराग को फोन करके घर भेजा। अनुराग जैसे ही संतोष के घर पहुंचे तो अंदर का नजारा देख दंग रह गए। संतोष, केसर और नौकरानी खून से लथपथ पड़ी हुई थी। यह उन्होंने शोर मचा दिया। शोर शराबा सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए। मामले की जानकारी होने पर एसपी यमुना प्रसाद, एएसपी पंकज कुमार पांडेय, सीओ सुदेश कुमार कई थानों की पुलिस के साथ मौके पर पहुंचे। तीन अलमारियों के ताले टूटे हुए थे और सामान बिखरा पड़ा था। साथ ही पुलिस को मौके से एक हथौड़ा भी मिला। तीनों की हत्या गला रेतकर और हथौड़ों से बार करके की गई। पुलिस ने शवों को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। लूट कितने रुपये की हुई यह जानकारी करने में पुलिस लगी हुई है। एसपी यमुना प्रसाद ने बताया कि हत्या क्यों की गई है। इसकी जांच की जा रही है। जल्द ही आरोपितों को गिरफ्तार किया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप