सहारनपुर, जेएनएन। यूपीटीईटी परीक्षा 23 जनवरी रविवार को महानगर के 34 केंद्रों पर दो पालियों में कराई जायेगी। परीक्षा पर निगरानी रखने के लिए प्रत्येक केंद्र पर दो-दो पर्यवेक्षक व एक स्टेटिक मजिस्ट्रेट नियुक्त किए जाएंगे। प्रशिक्षण प्रमाणपत्र की संबंधित संस्था से सत्यापित प्रति दिखाने के बाद केंद्र में प्रवेश दिया जायेगा। परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों को भी कक्ष निरीक्षक बनाया जायेगा।

रविवार को महानगर के 34 केंद्रों पर होने वाली यूपीटीईटी परीक्षा की तैयारियों को पुख्ता करने के लिए प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा ने जिला विद्यालय निरीक्षक रविदत्त और बीएसए अंबरीष कुमार के साथ आनलाइन बैठक की। परीक्षा केंद्रों पर प्रश्नपत्र खोलने से लेकर उनकी सीलिग-पैकिग तक की वीडियोग्राफी कराई जायेगी। राज्य स्तर पर स्थापित नियत्रंण कक्ष से मानीटरिग करने के अलावा प्रत्येक केंद्र पर दो-दो पर्यवेक्षक व एक स्टेटिक मजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए हैं। प्रथम पाली में 34 केंद्रों पर 18 हजार 505 तथा द्वितीय पाली में 24 केंद्रों पर 13 हजार 545 अभ्यर्थी पंजीकृत हैं। सीसीटीवी की निगरानी के अलावा पूरी परीक्षा प्रक्रिया की वीडियो ग्राफी कराई जायेगी।

जिला विद्यालय निरीक्षक रविदत्त ने बताया कि परीक्षा केंद्र में प्रवेश वेबसाइट से डाउनलोड किए गए प्रवेश पत्र में अंकित फोटोयुक्त आईडी एवं प्रशिक्षण प्रमाणपत्र के किसी भी सेमेस्टर के अंकपत्र की मूल प्रति अथवा संबंधित प्रशिक्षण संस्था के प्राचार्य, रजिस्ट्रार, सक्षम अधिकारी द्वारा इंटरनेट से प्राप्त अंकपत्र की सत्यापित प्रति देखकर ही दिया जाए। उन्होंने बताया कि जिस अभ्यर्थी के पास ये अभिलेख नहीं होंगे उसे केंद्र अधीक्षक द्वारा किसी भी स्थिति में परीक्षा में बैठने की अनुमति नहीं दी जायेगी। केंद्रों पर कोविड-19 डेस्क बनाने के भी निर्देश दिए गए हैं, यहां सैनिटाइजर, मास्क और थर्मल स्कैनर आदि की व्यवस्था की व्यवस्था रहेगी। बिना मास्क के किसी भी अभ्यर्थी को केंद्र पर प्रवेश की अनुमति नहीं होगी।

Edited By: Jagran