सहारनपुर, जेएनएन। रेल अधिकारियों के मुताबिक चाइनीज मांझे में उलझने के कारण हादसे की इसी प्रकार की घटना पूर्व में अहमदाबाद में हुई थी। उस समय भी चाइनीज मांझे के कारण इंजन में आग लग गई थी। एक रेल कर्मचारी ने जब मांझे को इंजन से अलग करने का प्रयास किया था तो करंट लगने से उसकी मौत हो गई थी। वरिष्ठ स्टेशन अधीक्षक कपिल शर्मा ने ट्रेन चालकों व लोगों से अपील करते हुए कहा है कि यदि ऐसी कोई घटना सामने आए तो मांझे को छूने का प्रयास न करें। हटाने के लिए लकड़ी के डंडे आदि का इस्तेमाल करें।

------

खुलेआम हो रही चाइनीज मांझे की बिक्री

चाइनीज मांझे की बिक्री व संग्रह प्रतिबंधित होने के बावजूद इसकी खुलेआम बिक्री जारी है। गत वर्ष मांझे के कारण अस्पताल फ्लाईओवर पर एक दोपहिया वाहन चालक गंभीर रूप से घायल हो गया था। इसके अलावा कई स्थानों पर चाइनीज मांझे की चपेट में आकर लोग चोटिल हो रहे हैं। हजारों पक्षियों की इसमें फंसने के कारण मौत हो चुकी है। पिछले दिनों ही नगर निगम का बाबू नीरज वर्मा वाहन पर जाते समय चाइनीज मांझे चपेट में आने से गंभीर रूप से घायल हो गया था। हद तो यह है कि सामाजिक व व्यापारी संगठन से लेकर आमजन तक चाइनीज मांझे की बिक्री पर रोक लगाने की मांग लगातार करते आ रहे हैं। इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। वर्तमान में भी करीब आधा दर्जन स्थानों पर इस मांझे की बिक्री हो रही है। ऐसा लगता है कि प्रशासन किसी बड़े हादसे की इंतजार में है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस