सहारनपुर, जेएनएन। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के मद्देनजर प्रशासन ने शराब माफिया पर शिकंजा कसने की तैयारी शुरू कर दी है। शासन के दिशा निर्देश पर पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा गांव गांव शराब माफिया को चिन्हि्त कर उन पर नजर रखने को स्थानीय सूचना तंत्र को सक्रिय कर दिया है।

प्रदेश में होने जा रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में इस बार मतदाताओं को शराब बांटने वाले प्रत्याशियों की खैर नहीं होगी। पुलिस संभावित प्रत्याशियों व उनके पांच-पांच समर्थकों को थाने बुलकर हिदायत दी जा रही हैं कि अगर उनके द्वारा पंचायत चुनाव में शराब बांटने की सूचना मिली तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मामले में सीओ रजनीश उपाध्याय ने बताया कि सर्किल के सभी थाना क्षेत्रों को इस बाबत निर्देश दिए गए हैं।

----------

मुखबिर तंत्र को किया सक्रिय

पुलिस के साथ-साथ आबकारी विभाग ने भी अपने मुखबिर तंत्र को सक्रिय कर दिया है ताकि संभावित प्रत्याशियों व उनके समर्थकों पर नजर रखी जा सके।

---------

प्रत्याशियों के पर्चे भी हो सकते हैं निरस्त

प्रशासनिक अधिकारियों की माने तो त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में अगर इस बार किसी भी प्रत्याशी द्वारा गांव में शराब और मतदाताओं में पैसे बांटते पकड़ा जाता है तो संबंधित प्रत्याशी के नामांकन को भी निरस्त किया जाएगा। एडीओ पंचायत अजीत कुमार ने बताया पंचायत चुनाव को पारदर्शिता के कराने हेतु निर्वाचन आयोग के दिशा निर्देशों का पालन किया जाएगा।

इन्होंने कहा...

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मतदाताओं को शराब परोसने वाले प्रत्याशियों को गिरफ्तार कर तत्काल प्रभाव से जेल भेजने की कार्यवाही की जाएगी। शराब माफियाओं पर नजर रखी जा रही है।

राकेश कुमार सिंह, एसडीएम देवबंद

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021