सहारनपुर, जेएनएन। देवबंद में नागरिकता संशोधन कानून और जामिया के छात्रों पर हुई पुलिस कार्रवाई के विरोध में रविवार को देवबंद में बिना अनुमति धरना प्रदर्शन किया गया। धरने में सभी ने सीएए को काला कानून बताते हुए सरकार से इसे वापस लेने की मांग की। शाम को मंच से ही 313 लोगों ने गिरफ्तारियां दी, जिन्हें मौके पर ही छोड़ दिया गया। इसके बाद जमीयत पदाधिकारियों ने सोमवार को भी 313 लोगों की गिरफ्तारी देने का एलान किया है।

सपा नेता एवं पूर्व विधायक माविया अली के आह्वान पर जमीयत उलमा-ए-हिद के बैनर तले शनिवार को बड़ी संख्या में लोग ईदगाह मैदान पहुंचे और धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान ईदगाह मैदान केंद्र सरकार विरोधी नारों से गूंजता रहा। धरने को संबोधित करते हुए दारुल उलूम के वरिष्ठ उस्ताद मुफ्ती हबीबुर्रहमान आजमी और मुफ्ती राशिद आजमी ने कहा कि इस मुल्क के लिए उलमा ने लंबी लड़ाई लड़ी और अजीम कुर्बानियां दी, जिसके बाद इस देश को आजादी मिली। कहा कि जब तक यह कानून वापिस नहीं होता, तब तक इस आजाद देश के लोगों को विरोध प्रदर्शन जारी रखना चाहिए। पूर्व विधायक ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून देश के संविधान के खिलाफ है। सीएए जैसे काले कानून के खिलाफ हमें लंबी लड़ाई लड़नी होगी, लेकिन हिसा से किसी भी लड़ाई को जीता नहीं जा सकता है। इसलिए हमें अपनी लड़ाई अमन के साथ लड़नी होगी। जमीयत उलमा-ए-हिद (महमूद मदनी गुट) के राष्ट्रीय सचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी और जिलाध्यक्ष मौलाना जहूर कासमी ने कहा कि जमीयत ने हमेशा देश और देशवासियों के हित की लड़ाई लड़ी है। इस काले कानून को लेकर भी जमीयत आखिर तक लड़ाई लड़ेगी। दारुल उलूम जकरिया के मोहतमिम मुफ्ती शरीफ कासमी, जमीयत के जिला सचिव जहीन अहमद, सुशील जायसवाल, कांग्रेसी नेता साद सिद्दीकी, मौलाना जकरिया नानौतवी, मुफ्ती अहमद गौड़, रिषभ त्यागी ने भी सीएए को काला कानून बताते हुए सरकार से इसे वापिस लेने की मांग की। पूर्व पालिकाध्यक्ष इनाम कुरैशी, उमैर उस्मानी, मौलाना शमशीर हसन, हुसैन मदनी, कारी सलीम, अहमद सिद्दीकी, अंसार मसूदी, मुस्तफा गौड़, फैजी सिद्दीकी, हाजी मुंशाद, मुफ्ती अथर, हैदर अली, रमजानी कुरैशी, माज नबी, नदीम आलम समेत भारी संख्या में लोग मौजूद रहे। मौके पर नजर रखने को जिलाधिकारी आलोक कुमार पांडेय व एसएसपी दिनेश कुमार पी भी देवबंद में ही मौजूद थे। ----इनसेट----

प्रदर्शनकारियों ने दिए अधिकारियों को फूल

संवाद सूत्र, देवबंद: जमीयत उलेमा ए हिद के पदाधिकारियों द्वारा प्रशासनिक अफसरों को गिरफ्तारी के लिए 313 लोगों के नामों की सूची सौंपने के साथ-साथ फूल भी पेश किए। इस दौरान जमीयत पदाधिकारियों ने कहा कि उनका प्रदर्शन काले कानून के खिलाफ है, न कि पुलिस प्रशासन के खिलाफ इसलिए वह उन्हें फूल देकर सम्मानित कर रहे हैं।

धरने के दौरान अदा की नमाज

करीब तीन घंटों तक लगातार धरना चलने के कारण असर की नमाज भी लोगों ने धरना स्थल पर ही अदा की।

पुलिस ने लगाए देवबंद आने वाले रास्तों पर पहरे

रविवार को ईदगाह में हुए धरना प्रदर्शन को लेकर प्रशासन के माथे पर चिता की लकीरें खिची रही। प्रशासन द्वारा नगर व आसपास के इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया गया। दारुल उलूम क्षेत्र में चप्पे चप्पे पर फोर्स तैनात की गई। एडीएम एफ विनोद कुमार, एसपी देहात विद्यासागर मिश्र, एसडीएम राकेश कुमार, सीओ चैब सिंह और प्रभारी निरीक्षक यज्ञदत्त शर्मा धरना स्थल के बाहर स्वयं सुरक्षा की कमान संभाले रहे। देहात से आने वाले सभी रास्तों पर पुलिस बल तैनात रहा। ग्रामीण अंचलों से आने वाले लोगों को पुलिस ने रास्ते में ही रोक लिया और धरना स्थल तक नहीं पहुंचने दिया गया। इसके अलावा शहर से हजारों की संख्या में लोग धरना स्थल पर पहुंचे और सीएए का विरोध किया।

सहारनपुर-मुजफ्फरनगर हाईवे पर रूट डायवर्ट

रविवार के धरना प्रदर्शन को देखते हुए प्रशासन द्वारा सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए गए थे। सहारनपुर स्टेट हाईवे को सीज करने के साथ ही घलौली चेकपोस्ट, यूपी-उत्तराखंड बार्डर, देवबंद-नानौता मार्ग एवं अन्य क्षेत्रों में व्यापक सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। जहां एक ओर सहारनपुर से आने वाले वाहनों को नागल से उत्तराखंड के रास्ते निकाला गया वहीं, दूसरी ओर मुजफ्फरनगर की ओर से आने वाले वाहनों को रणखंडी से होते हुए नानौता-बड़गांव के रास्ते निकाला गया।

आइबी और एटीएस की भी रही नजर

संवाद सूत्र, देवबंद: रविवार को देवबंद में आयोजित धरना प्रदर्शन के चलते प्रशासन के अलावा खुफिया एजेंसी भी सतर्क रहीं, आइबी, एटीएस, स्थानीय खुफिया एजेंसी के आला अधिकारी देवबंद के हालात से उच्च अधिकारियों को अवगत कराते रहे। देर शाम धरना प्रदर्शन शांतिपूर्ण ढंग से समाप्त होने के बाद खुफिया एजेंसियों की टीम वापिस लौट गई।

पल-पल की जानकारी लेते रहे अधिकारी

देवबंद में आयोजित धरना प्रदर्शन के दौरान डीएम आलोक पांडेय, एसएसपी दिनेश कुमार पी, एसपी देहात विद्यासागर मिश्र, एडीएम एफ विनोद कुमार, एसडीएम राजेश कुमार, सीओ चैब सिंह भारी पुलिस बल के साथ देवबंद में सभा स्थल के पास डेरा डाले रहे। इतना ही नहीं डीएम और एसएसपी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ धरना स्थल के समीप स्थित इंदिरा पार्क में ड्रोन कैमरे से मिल रही वीडियो और तस्वीरों को देखकर धरना स्थल पर नजर बनाए रहे और भीड़ का आंकलन करते नजर आए।

--

लोगों में रहा भय का माहौल

संस, देवबंद: सीएए और एनआरसी के विरोध में रविवार को आयोजित धरना प्रदर्शन को लेकर लोगों में भय का माहौल बना रहा। प्रशासन द्वारा सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर पहले से ही स्टेट हाईवे समेत अन्य मार्गों पर सुरक्षा व्यवस्था सख्त कर दी गई। लोगों को तलाशी के बाद ही अंदर आने दिया गया। पुलिस और प्रशासन की मुस्तैदी के चलते धरना प्रर्दशन शांति के साथ समाप्त होने के बाद अधिकारी और नगर व ग्रामीण इलाकों के लोगों ने राहत की सांस ली।

---

इनका कहना है...

आज के कार्यक्रम की कोई अनुमति नहीं थी, आगे के कार्यक्रम के संबंध में जानकारी नहीं है। लोग शांति बनाए रखें और किसी तरह की अफवाह पर ध्यान न दें। यदि कोई माहौल खराब करने का प्रयास करेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

-आलोक कुमार, डीएम सहारनपुर।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस