सहारनपुर, जेएनएन। गंगोह में जिला एवं क्षेत्र पंचायत सदस्यों व प्रधानी के लिए हुए मतदान के बाद प्रशासन अब मतगणना की तैयारी में लग गया है। उधर, परिणाम को लेकर अब प्रत्याशियों के समर्थक अपना गणित बैठाने लगे हैं।

बृहस्पतिवार को मतदान के बाद अलग-अलग दलों के समर्थित प्रत्याशी अपने समर्थकों से घिरे रहे। देर रात तक वोटों की गुणा भाग लोग करते रहे। इस चुनाव में सपा, बसपा, कांग्रेस व भाजपा ने भी अपने उम्मीदवार खड़े किए थे। कमोबेश सभी दलों के अधिकृत प्रत्याशियों के मुकाबले अनेक लोगों ने पर्चे भरे तथा अपनी ही पार्टी के समर्थित प्रत्याशी को नुकसान पहुंचाया। भाजपा ने तो ऐसे लोगों को तीन दिन पूर्व पार्टी से निकाल दिया है। प्रधान पद के प्रत्याशी भी अपनी जीत हार का आंकलन समर्थकों की मदद से कर रहे हैं। मतदान के बाद देर रात तक मतगणना स्थल हिन्दू राष्ट्रीय इंटर कालेज में मतपेटियां जमा कराने का सिलसिला चलता रहा। अलग-अलग ग्राम सभा के लिए अलग कमरों में गिनती का काम चलेगा। इसके लिए व्यवस्था को अंतिम आकार देने का कम चल रहा है।

गंगोह ब्लाक से 98 प्रधान 8 133 बीडीसी सदस्य चुने जाएंगे। मतगणना दो मई को होगी।

------------

दो प्रत्याशियों में संघर्ष होने के बाद त्रिकोणीय मुकाबला

जड़ौदापांडा: बताया जाता है कि क्षेत्र के एक गाव में साइकिल बांटने को लेकर दो प्रत्याशियों के बीच संघर्ष होने के बावजूद भी त्रिकोणीय मुकाबला। जिले की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत जड़ौदापांडा में प्रधान पद के लिए छह उम्मीदवार खड़े थे, लेकिन वोट डालने से एक दिन पहले जड़ौदापांडा के मजरे किशनपुरा गांव में साइकिल बांटने को लेकर दो प्रत्याशियों के बीच संघर्ष हो गया। जिससे गांव में त्रिकोणीय मुकाबला हो गया है। ग्रामीणों का कहना है कि यदि संघर्ष नहीं होता तो दो प्रत्याशियों के बीच कांटे की टक्कर होती, लेकिन संघर्ष के बाद त्रिकीणीय मुकाबला हो गया है।