सहारनपुर जेएनएन। सहारनपुर को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने की योजना पर कार्य कर रहा नगर निगम अभी स्मार्ट सिटी कमांड कंट्रोल रूम तो स्थापित कर ही नहीं पाया है। निगम बोर्ड सदस्यों के लिए मीटिंग हाल व पार्षद कक्ष निर्माण से किनारा कर गया है। ऐसे में बोर्ड सदस्यों के निगम में बैठने तक से वंचित रहने के आसार बन गए है।

सहारनपुर नगर निगम का गठन दस वर्ष पूर्व 2009 में हुआ था। इसके बाद वर्ष 2017-18 में निगम बोर्ड का गठन हुआ था जिसे करीब दो वर्ष होने जा रहे है। वर्ष 2016 में नगर निगम प्रशासन द्वारा करोड़ों की लागत से मेयर के अलावा अधिकारियों के कार्यालय तथा बोर्ड मिटिग हाल व पार्षद कक्ष के निर्माण की योजना पर कार्य शुरू कराया था। 2017 के अंतिम दौर में आनन फानन में सभासद कक्ष को मेयर कार्यालय में तो तब्दील कर दिया गया लेकिन मिटिग हाल व पार्षद कक्ष का निर्माण आजतक नहीं हो पाया है। यही कारण है कि बोर्ड बैठकें तक आइटीसी सभागार अथवा सर्किट हाउस में आयोजित होती रही है। जबकि बोर्ड बैठक में सदस्य हर बार मिटिग हाल व पार्षद कक्ष निर्माण की मांग करते रहे है। निगम परिसर में होने वाला निर्माण तीन वर्ष में पूरा न होना निगम की विकास की गति पर सवालिया निशान लगना लाजमी है।

कंट्रोल रूम में फंस गई योजना

तीन वर्ष पूर्व नगर निगम परिसर में अधिकारी कार्यालय, मिटिग हाल व पार्षद कक्ष का निर्माण एक साथ शुरू कराया गया था। बाद में स्मार्ट सिटी कमांड कंट्रोल रूम भी यहीं बनाने का निर्णय लिया गया। जिसमें भूतल पर अधिकारी कार्यालय, प्रथम तल पर स्मार्ट सिटी कंट्रोल रूम तथा द्वितीय तल पर मिटिग हाल व पार्षद कक्ष का निर्माण किया जाना प्रस्तावित था। निगम अधिकारी कार्यालय निर्माण तो अंतिम दौर में है जबकि कंट्रोल रूम अधूरा है तथा मिटिग हाल व पार्षद कक्ष का निर्माण ही कैंसिल कर दिया गया है। ऐसे में बोर्ड सदस्यों को बैठने का स्थान कब उपलब्ध हो पाएगा यह बड़ा सवाल बनता जा रहा है।

इनका कहना है..

निगम परिसर में उक्त तीनों निर्माण कार्य एकसाथ शुरू कराया गए थे। अधिकारी कार्यालय तकरीबन तैयार हो चुके है, तथा कंट्रोल रूम स्थापित करने को अधिक स्थान की आवश्यकता होने के कारण द्वितीय तल भी कंट्रोल रूम के लिए दे दिया गया है। मिटिग हाल व पार्षद कक्ष का निर्माण स्थगित कर दिया गया है तथा अभी इसकी कोई योजना नहीं है।

-आलोक कुमार, चीफ इंजीनियर नगर निगम सहारनपुर।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप