सहारनपुर, जेएनएन। कोलकाता में दुर्गा अष्टमी पर पूजा पति निखिल जैन के साथ बंगाली फिल्म अभिनेत्री एवं तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसद नुसरत जहां के पूजा करने पर देवबंद के उलमा फिर भड़क गए हैं। दुर्गा अष्टमी पर पूजा-अर्चना कर नुसरत जहां उलमा के निशाने पर आई हैं। उलमा ने कहा है कि इस्लाम में अल्लाह के सिवाय किसी और की इबादत करना हराम है। उलमा ने नुसरत को अपना नाम बदल लेने की सलाह दी है।

नुसरत जहां माथे पर बिंदी, मांग में सिंदूर लगाकर पति निखिल जैन के साथ कोलकाता के पंडाल में रविवार को दुर्गाष्टमी के मौके पर मां दुर्गा की पूजा करने पहुंची थीं। इस दौरान उन्होंने ढोल पर नृत्य भी किया था, जिसकी तस्वीरें और वीडियो वायरल हो रहा है। इस पर उलमा नुसरत जहां पर भड़क उठे हैं। 

जामिया शेखुल ङ्क्षहद के मोहतमिम मुफ्ती असद कासमी ने कहा कि नुसरत जहां लगातार पूजा अर्चना करती चली आ रही हैं। इसी अमल को दोराहते हुए उन्होंने इस बार दुर्गा की पूजा की है। इस तरह का अमल इस्लाम में बिल्कुल जायज नहीं है। उन्होंने कहा कि नुसरत जहां इस्लाम के ऊपर अमल नहीं कर रही हैं और सभी काम गैर शरई कर रही हैं। उन्होंने शादी भी गैर मजहब में की है। वह इस्लाम की तौहीन कर रही हैं। ऐसे में उनको मशविरा है कि वह इस्लाम को बदनाम न करें और अपना नाम भी बदल लें। मुफ्ती असद कासमी ने कहा था कि उन्होंने जो किया वह हराम (पाप) है। उन्होंने अपने धर्म से बाहर शादी की है। उन्हें अपना नाम और धर्म बदल लेना चाहिए। इस्लाम में ऐसे लोगों की जरूरत नहीं है जो मुस्लिम नाम रखें और इस्लाम और मुसलमानों को बदनाम करें।

जामिया हुसैनिया के वरिष्ठ उस्ताद मुफ्ती तारिक कासमी ने कहा कि इस्लाम में केवल अल्लाह की इबादत की जा सकती है, जो गैर शरई अमल कर रहे हैं। उन्हें अल्लाह से तौबा करनी चाहिए। यह नया नहीं है। वह वहां पर हिंदू देवी-देवताओं की पूजा कर रही थीं जबकि इस्लाम में मुसलमानों को सिर्फ 'अल्लाह' की इबादत करने का आदेश है।

साड़ी में नजर आईं जहां ने सुरूची संघा में अपने पति के साथ दुर्गा पूजा उत्सव में हिस्सा लिया। एक पुजारी के मंत्रोच्चार के दौरान नुसरत जहां ने भी भी मंत्रों का जाप किया। इस दौरान वह पूजा वाली मुद्रा में थीं। उन्होंने यहां ढोल भी बजाया और नृत्य किया। इसके बाद बाद में बताया कि उन्होंने सभी की शांति और समृद्धि के लिए पूजा-अर्चना की।

नुसरत जहां ने कोलकाता में दुर्गा पूजा पंडाल में धमाल मचाया था। नुसरत नगाड़े की धुन पर जमकर झूमीं थीं। नुसरत जहां की देवी भक्ति के कई रंग दिखे। उन्होने पति निखिल जैन से साथ नगाड़ा बजाया था। इससे पहले भी नुसरत जहां पूजा समारोह में जाने, साड़ी, सिंदूर, मंगलसूत्र और मॉडर्न कपड़े पहनने को लेकर उलमा की नाराजगी मोल ले चुकी हैं। बशीरहाट से पहली बार सांसद निर्वाचित हुई नुसरत जहां शादी के बाद से हिंदू प्रतीकों जैसे 'मंगलसूत्र और 'सिंदूर' का इस्तेमाल करती हैं। उन्होंने इसी वर्ष उद्यमी निखिल जैन से शादी की है।

पति ने किया बचाव

दुर्गा पूजा में हिस्सा लेकर मौलवियों ने निशाने आई नुसरत जहां का उनके पति निखिल जैन ने बचाव किया। निखिल जैन ने कहा कि जब हम समावेशी भारत की बात करते हैं तो यह भारत के लिए एक सकारात्मक संदेश है। मुस्लिम हो, हिंदू हो, ईसाई हो... सभी को सभी धर्मों को स्वीकार करना चाहिए। आप जिस पर भी विश्वास कर सकते हैं, उसका अनुसरण कर सकते हैं। नुसरत ने बहुत अच्छा उदाहरण पेश किया है।

ऐसे विरोध होता देख पति निखिल जैन उनके समर्थन में आए और नुसरत जहां के दुर्गा पूजा में हिस्सा लेने को एक अच्छा उदाहरण बताया। नुसरत जहां भी अपने रुख पर कायम हैं। उन्होंने कहा कि उनके पास सभी धर्मों के बीच सद्भाव को चित्रित करने का अपना तरीका है। उन्होंने कहा कि कोई भी विवादों का हिस्सा नहीं बनना चाहता। सभी धर्मों के बीच सद्भाव को चित्रित करने का मेरा अपना तरीका है। मैं हमेशा सभी धर्मों का सम्मान करता रहा हूं। बंगाल में जन्मे और पले-बढ़े, मुझे लगता है मैं यहां की परंपरा और संस्कृतियों का पालन करते हुए बहुत कुछ कर रहा हूं। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस