सहारनपुर, जेएनएन। रामपुर मनिहारान से भाजपा विधायक देवेंद्र निम ने अपने ऊपर लगे प्लाट कब्जाने के आरोपों पर कहा कि उन पर लगाए गए आरोप सभी आरोप पूरी तरह से बेबुनियाद हैं। उन्हें राजनीतिक साजिश के तहत बेवजह फंसाया जा रहा है। वह शीघ्र ही प्रतिवादी के खिलाफ सक्षम न्यायालय में मानहानि का वाद दायर करेंगे।

बुधवार को मामले में भाजपा विधायक देवेंद्र निम ने उक्त सफाई अपने निवास पर पत्रकारवार्ता के दौरान दी। उन्होंने कहा कि उनके वाद में हकीकतनगर निवासी प्रतिवादी सतीश कुमार ने सोशल मीडिया पर जमीन कब्जाने संबंधी, जो सूचना वायरल की थीं। वह गलत तथ्यों पर आधारित है। उन्होंने सभी पत्रावली मीडिया को देते हुए कहा कि दिल्ली रोड पर आइटीआइ के सामने एक बर्फ फैक्ट्री काफी पहले से बंद थी, जिससे लगा हुआ ही उनका एक प्लाट है, जिस पर उनका 33 वर्ष से कब्जा है और चारदीवारी बनी हुई है। प्लाट का रास्ता इस बंद फैक्ट्री से होकर जाता है। मामले में उच्च न्यायालय में वाद विचाराधीन है, जिसमें उन्हें स्थायी स्टे मिला हुआ है। उनके पूर्व विधायक स्वर्गीय राम स्वरूप निम ने धारा 229 बी जमीदारी विनाश अधिनियम के अंर्तगत 1988 में वाद दायर किया था। जिसमें अपर उप जिलाधिकारी सदर ने 21 जनवरी 20 को उनके हक में फैसला आया था। इसके बाद प्रतिवादी सतीश कुमार ने अपर आयुक्त सहारनपुर मंडल के न्यायालय में सतीश कुमार बनाम देवेंद्र कुमार निम के नाम से प्रथम अपील दाखिल की थी, जो अपर आयुक्त ने उनके हक में 27 जुलाई 21 को खारिज कर दी थी। इसके बाद सतीश कुमार ने द्वितीय अपील राजस्व परिषद में दाखिल की है, जो विचाराधीन है। इससे साफ है कि उन्होंने न तो किसी प्लाट पर कब्जा किया और न ही किसी को धमकी दी है। राजनीतिक विरोधियों के हाथ में खेलकर सतीश कुमार उन्हें बदनाम कर रहे हैं।

Edited By: Jagran