सहारनपुर,जेएनएन। पानीपत के दो व्यापारियों से जमीन दिखाए बिना तीन करोड़ की ठगी का मामला बड़ा जरूर है, लेकिन इस तरह का गैंग यहां पहले से ही सक्रिय है। करीब दो-ढाई साल पहले सरसावा, नागल तथा शहर सहारनपुर के एक गैंग ने भाजपा नेता पूर्व महानगर मंत्री मंत्री अमित वर्मा से भी करीब 14 लाख रुपये ठग लिए थे। उन्हें सरसावा में जमीन बता कर बिल्कुल इसी तरह लाखों के मुनाफे के सब्जबाग दिखाए थे। दिल्ली के बिल्डर से मुलाकात तक करवाई थी। भरोसा जीतने के लिए बिल्डर से करीब 50 हजार रुपये बतौर एडवांस भी दिलवाए, लेकिन 14 लाख रुपये लेने के बाद बैनामा नहीं कराया। मजे की बात यह है कि इस धोखेबाजी में जमीन स्वामी भी शामिल था। मामले ने तूल पकड़ा तो थाना सदर बाजार में धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज हुई और पुलिस ने इसमें शामिल कई ठगों को जेल भेज दिया था।

ठगों की पत्नियां घर छोड़ कर फरार

एसएसआइ थाना नकुड़ राजीव यादव ने बताया कि आरोपित रिकू की पत्नी प्रियंका तथा मुर्सलीन की पत्नी शाहनवाज उसी रात से गायब हैं। पानीपत के व्यापारियों से रुपये इन्हीं दोनों ने लिए थे। ठगी का एक बड़ा हिस्सा इन्हीं दोनों महिलाओं के साथ-साथ प्रदीप पुत्र कर्म सिंह गांव जुड्डी थाना नकुड़ के पास है। दो सदस्य और हैं, जिनके नाम इन्हीं को पता नहीं है। पांचों की तलाश की जा रही है।

इस टीम ने किया राजफाश

ठगों के इस ग्रुप को पकड़ने में इंस्पेक्टर नकुड़ सुशील कुमार सैनी, एसएसआइ राजीव कुमार यादव, प्रभारी अभिसूचना विग जर्रार हुसैन, दारोगा अमित शर्मा, सिपाही विपिन पंवार, अरुण कुमार, रिकू व होमगार्ड धर्म सिंह शामिल रहे।

Posted By: Jagran