सहारनपुर जेएनएन। वाकयी एक बार फिर से काबिल-ए-तारीफ रही चुनाव आयोग की व्यवस्थाएं। गंगोह विधानसभा के उपचुनाव में कोई गड़बड़ी नहीं हो इसके लिए सोमवार को पुलिस-प्रशासन के साथ-साथ अत्याधुनिक हथियारों से लैस पैरामिल्ट्री फोर्स व पीएसी भी चुस्त-दुरुस्त दिखाई दी। सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक हुए मतदान में कहीं से भी किसी तरह की किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं रही।

गंगोह उपचुनाव संपन्न होने के बाद कुल 11 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद हो गया है। 369367 मतदातों में से करीब 60 फीसदी मतदताओं ने अपने मतों का उपयोग किया। जिला निवार्चन अधिकारी व एसएसपी लगातार मतदान क्षेत्र में घूमते रहे। संवेदनशील 60 बूथों पर पैनी निगाह थी। मतदान के लिए सात कंपनी पीएसी व पैरामिलिट्री फोर्स को लगाया गया था, जो सुबह ही अपने-अपने ड्यूटी प्वाइंट पर पहुंचे और मोर्चा संभाल लिया। चुनाव आयोग ने जो सोच कर इस तरह की व्यवस्था की थी, वह कारगर साबित हुई। मतदान केंद्र के अंदर पैरा मिलिट्री फोर्स के जवान मुस्तैदी से खड़े थे। हाथ में हथियार जरूर थे, लेकिन उनकी जुबान पर मिठास थी। अपने बूथ तक पहुंचने में जिसे भी दिक्कत थी। वह उसे वहां तक छोड़कर भी आ रहे थे। परिजनों के साथ पोलिग स्टेशन पर पहुंचने वाले कुछ बच्चों को तो पुचकारते हुए जवानों ने गोद में उठा लिया था। शाम छह बजे जैसे ही मतदान का समय समाप्त हुआ तो लाइन में लगे हुए मतदाताओं को छोड़ अन्य किसी को अंदर प्रवेश करने तक नहीं दिया गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप