सहारनपुर, जेएनएन। छुटमलपुर में आरोप-प्रत्यारोप के चलते डीएम द्वारा प्रधान शमां परवीन के वित्तीय अधिकारों पर लगाई गई रोक का खमियाजा आम आदमी को भुगतना पड़ रहा है। कस्बे में सफाई नहीं होने के कारण नाले चौक हैं और बारिश के पानी की निकासी नहीं हो रही है।

आलम यह है कि हिन्द व सूरज विहार कालोनी का पानी बाजार के बीच से गुजर रहे हलवाना बेहड़ा मार्ग पर जमा है। इस रोड से कमालपुर रोड पर निकलने वाला मेन रास्ता भी जलभराव के कारण जौहड़ का रूप ले चुका है। इससे आम नागरिकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि छुटमलपुर की प्रधान शमां परवीन के विरुद्ध शिकायतों के चलते करीब आठ माह पूर्व डीएम आलोक कुमार ने आरोपों की जांच के लिए कमेटी गठित की थी, जिसके चलते ही प्रधान शमां परवीन के वित्तीय अधिकारों पर रोक लगा दी थी और पंचायत का कामकाज चलाने के लिए तीन सदस्यों की कमेटी का गठन कर दिया था। हालांकि डीएम ने सप्ताहभर पहले प्रधान के वित्तीय अधिकारों पर लगी रोक हटाते हुए उन्हें पूर्व की भांति पंचायत के कार्य संपादित करने की अनुमति दे दी है, लेकिन प्रधान के वित्तीय अधिकारों पर कई माह तक चली रोक के कारण बरसात से पूर्व होने वाली नालों की सफाई नहीं हो सकी है। चांद कालोनी में प्राथमिक विद्यालय और मस्जिद जाने वाला रास्ता जलभराव के कारण पूरी तरह से अवरुद्ध है। स्कूली बच्चे व नमाजी लोगों के घरों के सामने बनी बाउंड्रीवाल का सहारा लेकर आ जा रहे हैं। हलवाना बेहड़ा मार्ग पर पानी भरा होने से व्यापारियों का दुकानों पर बैठना और ग्राहकों का बाजार में चलना मुश्किल हो रहा है। व्यापारी पंडित ब्रजेश शर्मा, सुंदर हलवाई, मुकेश कुमार, डा. आदित्य कुमार, मो युसुफ कुरैशी, सईद अहमद, डॉ अमित सेन, सद्दाम, आमिर, विनय चौधरी, डॉ प्रकाश चंद अग्रवाल व जयसिंह आदि का कहना है कि निकासी की व्यवस्था न होने से समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

उधर, प्रधान शमां परवीन का कहना है कि उनके वित्तीय अधिकारों पर लगी रोक के कारण समय पर नालों की सफाई नहीं हो पा रही है, जिससे समस्या उत्पन्न हो रही हुई है। अब शीघ्र ही नालों की सफाई का कार्य शुरू कराया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस