सहारनपुर (जेएनएन)। नोटबंदी में फर्जी संस्था खड़ी करके उसके सदस्यों के नाम से बैंक खाते खुलवाकर ब्लैक मनी को व्हाइट करने का मामला सामने आया है। इस फर्जीवाड़े से पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल और उनके रिश्तेदारों को लाभ पहुंचाया गया।

इसी तरह की एक फर्जी संस्था में एक व्यक्ति को सदस्य के तौर पर जब अपना नाम भी शामिल मिला तो उसने डीएम से कार्रवाई की मांग करते हुए शिकायती पत्र दिया है। पीडि़त ने मामला सुलझाने के लिए फोन पर दी गई धमकी की ऑडियो रिकार्डिंग भी डीएम को सौंपी है।

मीरपुर गंदेवड निवासी विश्वास कुमार ने जिलाधिकारी को दिए शिकायती पत्र में लिखा है कि यमुना एग्रो सॉल्यूशन और यमुना एग्रो टेक फाई साउथ सिटी नई दिल्ली के नाम से वैभव मुकुंद और विश्वास कुमार ने संस्था बनाई थी। दोनों संस्थाओं में केवल यमुना एग्रो टेक फार्म रजिस्ट्रार कार्यालय में पंजीकृत है। विश्वास को पता चला कि अपंजीकृत यमुना एग्रो सॉल्युशन में बिना जानकारी दिए उन्हें पार्टनर बना दिया गया। बाद में वैभव मुकुंद के स्थान पर सौरभ मुकुंद और विनोद कुमार पार्टनर दिखाकर पीएनबी की शाखा में खाता खुलवाया गया। विश्वास के हस्ताक्षर भी किसी ने कर दिए।

विश्वास के नाम से खोले गए फर्जी बैंक खाते से सौरभ मुकुंद और विनोद कुमार ने काफी लेनदेन किया। सारा लेनदेन पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल के परिजनों द्वारा बनी कंपनियों से किया गया। डीएम पीके पाण्डेय ने बताया कि शिकायत मिली है, जिसे जांच कर कार्रवाई के लिए एसएसपी को भेज दिया गया है। इस संबंध में हाजी इकबाल से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो पाया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप