सहारनपुर, जेएनएन। नगर निगम में एक चपरासी को चार प्रमुख विभाग का वर्षों से बड़ा बाबू बनाए रखने तथा उसके द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार पर रोक लगाने की मांग पार्षदों ने की है।

पार्षदों के प्रतिनिधि मंडल ने सोमवार को मंडलायुक्त को ज्ञापन देकर कहा कि नगर के वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा एक चपरासी को निगम के प्रमुख विभाग रिकार्ड रूम, उद्यान विभाग गोशाला सहित कई विभागों का वरिष्ठ लिपित नियुक्त किया हुआ है, जो कि नगर निगम में भारी भ्रष्टाचार करने में लगा है। यह स्थिति तब है जबकि शासन के आदेश के तहत कोई भी निकाय कर्मचारी अपने मूल पद से उच्च पद पर कार्य नहीं कर सकता है। उन्होंने उदाहरण देकर बताया कि उद्यान विभाग द्वारा एक निविदा 2 जून को जारी हुई थी तथा 10 जून को टेंडर खुलने पर एक टेंडर के कारण निविदा निरस्त कर दी गई थी। इसके बाद जिन पौधों के खरीदने की लिस्ट टेंडर में जारी की गई थी उनकों उद्यान प्रभारी व लिपिक ने मिलीभगत कर बेहट रोड व पुरानी चुंगी डिवाइडर पर लगवाना शुरू कर दिया जो कि नियम विरूद्ध है। पार्षदों का कहना था उद्यान लिपिक मुकेश को घोटालों में महारथ हासिल है तथा बोर्ड बैठक में भी इसके मसले रखने पर अनदेखी की जाती रही है। पार्षदों ने भ्रष्टाचार पर रोक लगाने तथा पूरे मामले की जांच कराकर दंडात्मक कार्रवाई करने की मांग की है। इस दौरान पार्षद मोहर सिंह, अनिल कुमार, भूरा सिंह प्रजापति, प्रदीप उपाध्याय अभिषेक टिकू अरोड़ा, गौरव चौधरी आदि के अलावा अन्य लोग मौजूद रहे।

Edited By: Jagran