सहारनपुर, जेएनएन। मैनपुरी के विजय आजाद द्वारा भीम आर्मी एकता मिशन को अपना संगठन बताने व चंद्रशेखर आजाद, विनय रतन, मंजीत सिंह नौटियाल तथा कमल वालिया सहित अन्यों को संगठन से बाहर बताने के बाद भूचाल आ गया है। रविवार को पत्रकारों से रूबरू हुए राष्ट्रीय प्रवक्ता व राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि भीम आर्मी हमारी है, जिसके पर्याप्त सुबूत हमारे पास हैं। साथ ही यह भी बताया कि भीम आर्मी संगठन का रजिस्ट्रेशन तो हमारे पास नहीं है लेकिन संगठन हमारा ही है।

बामियान बौद्ध विहार में पत्रकारों से वार्ता करते हुए खुद को भीम आर्मी का राष्ट्रीय प्रवक्ता कहने वाले मंजीत सिंह नौटियाल ने शुक्रवार को मैनपुरी से यहां पहुंचे विजय आजाद के सभी दावों को बेबुनियाद बताया। मंजीत ने कहा कि अप्रैल से पहले तो विजय स्वयं हमारे संगठन में मैनपुरी से बतौर संयोजक काम कर रहे थे। मंजीत ने कहा कि विजय आरएसएस व भाजपा से मिले हुए हैं और उन्हीं के इशारे पर अप्रैल में उन्होंने मैनपुरी से भीम आर्मी एकता मिशन के नाम से संगठन का रजिस्ट्रेशन करवा लिया। नौटियाल ने कहा कि 21 जून 2015 को छुटमलपुर में भीम आर्मी की नींव रखी गई थी। हालांकि आज तक हमने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया है। उन्होंने कहा कि विजय आजाद को संगठन की ओर से कानूनी नोटिस भेजा जाएगा क्योंकि वह दूसरे के हाथों की कठपुतली बन कर सर्वसमाज को भ्रमित करने का काम कर रहे हैं। राष्ट्रीय महासचिव कमल वालिया ने कहा कि भीम आर्मी के संस्थापक के निर्देशन में डोर-टू-डोर अभियान शुरू हो गया है ताकि सर्वसमाज के लोगों से संपर्क कर उनकी परेशानियों का पता लगाया जा सके। जिला अध्यक्ष रोहित राज व नगर प्रभारी प्रवीण गौतम ने कहा कि अलीगढ़ के टप्पल में मासूम बच्ची के साथ हुई दरिदगी की संगठन निंदा करता है। साथ ही प्रदेश सरकार से मांग करता है कि ऐसे आरोपितों को सख्त से सख्त सजा दिलवाई जाए। उन्होंने बताया कि काफी समय से रिक्त चल रहे नगर अध्यक्ष पद पर प्रदीप जाटव तथा उपाध्यक्ष पद पर सालिग अजीम को मनोनीत किया गया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप