टांडा : नाले पर बने अतिक्रमण को प्रशासन व नगर पालिका द्वारा पुलिस व पीएसी की मौजूदगी में हटाने की शुरुआत हुई। इस बीच मकान स्वामी व कुछ लोगों ने इसका विरोध करते हुए अतिक्रमण हटाने का विरोध किया। पर पुलिस ने लोगों को शांत कर दिया।

तहसीलदार महेंद्र बहादुर सिंह, अधिशासी अधिकारी राजेश सिंह राना, नायब तहसीलदार शिव प्रकाश सरोज, कोतवाली प्राभारी माधो सिंह बिष्ट आदि पुलिस व फोर्स के साथ दोपहर में नगर पालिका कर्मियों के साथ मुहल्ला पुराना बाजार पुलिया पर पहुंच गए और नाले पर कब्जा धारकों से कब्ज मुक्त करने को जेसीबी से अतिक्रमण तोड़ने की शुरुआत की। बारिश के चलते काफी देर से अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया। जीसीबी से नाले पर बनी दीवार तथा मकान तोड़ने की शुरुआत होते ही मकान स्वामी गुस्सा गया और गरीबी की दुहाई देते हुए कहने लगा कि मकान बनाने को उसने जमीन का बैनामा कराया था और उसके पास कोर्ट के कागजात भी हैं। बाद में स्वयं ही मकान खाली करने लगा। कटर से उसकी दीवार भी काटी गई। नाले की भी जेसीबी से सफाई कराई।

तहसीलदार महेंद्र बहादुर सिंह का कहना है कि नाले पर अतिक्रमण हटाओ अभिययन अभी जारी रहेगा। उधर ईओ राजेश सिंह राना का कहना है कि नाले की सफाई को अभियान जारी रखा जाएगा। ध्यान रहे कि नगर का बड़ा नाला जो मोहल्ला काजीपुरा में जामा मस्जिद से होकर बाल्मीकि बस्ती होता हुआ बहल्ला नदी में जाकर गिरता है। उक्त नाले पर रास्ते मे कई स्थानों पर लोगों ने मकान बनाकर अतिक्रमण कर रखा है। जिस से गंदगी व बरसात के पानी की निकासी बाधित होती है और बरसात का पानी मोहल्लों व घरों में भर जाता है। जिससे लोगों का नुकसान होता है। इसपर कुछ लोगों ने मामले की शिकायत नगर पालिका से की। इसपर ईओ राजेश सिंह राना ने मौके का निरीक्षण कर 26 अतिक्रमणकारियों को नोटिस जारी किए। इसकी रिपोर्ट एसडीएम को भी दी। एसडीएम गौरव कुमार ने मामले की जांच तहसीलदार महेंद्र बहादुर से कराई। जांच में नाले पर अतिक्रमण पाया गया। कुछ लोगों ने नोटिस के जवाब भी दिए। नगर पालिका ने नोटिस खारिज कर शुक्रवार सायें तक अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया था। अन्यथा शनिवार को पुलिस प्रशासन नगर पालिका कर्मचारियों के सहयोग से बलपूर्वक अवैध कब्जा हटा दिया जाएगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप