रामपुर : स्थानांतरण नीति के विरोध में स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल चौथे दिन भी जारी रही। हड़ताली कर्मचारियों ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय पर धरना दिया। कर्मचारियों की हड़ताल से दिव्यांग प्रमाण पत्र, स्वास्थ्य प्रमाण पत्र आदि बनाने का काम नहीं हो सका।

स्वास्थ्य विभाग में बड़े पैमाने पर कर्मचारियों के तबादले किए जा रहे हैं। इसके खिलाफ स्वास्थ्य कर्मचारी लामबंद हो गए हैं। यूपी मेडिकल एंड पब्लिक हेल्थ मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन के प्रांतीय आह्वान पर 19 जुलाई से कार्य बहिष्कार कर दिया है। गुरुवार को भी कर्मचारियों ने काम नहीं किया। हालांकि सुबह 10 बजे सभी कर्मचारी कार्यालय आए। सीएमओ कार्यालय परिसर में ही धरना देकर बैठ गए। कर्मचारियों ने स्थानांतरण नीति का विरोध जताया। कहा कि कर्मचारियों के तबादले में मनमानी की जा रही है। तबादले वर्तमान तैनाती स्थल से 500 किलोमीटर दूर किए जा रहे हैं। इसके विरोध में हड़ताल की गई है, जो अनिश्चितकालीन है। 26 को सभी जिलों से स्वास्थ्य कर्मी लखनऊ जाएंगे और स्वास्थ्य भवन का घेराव किया जाएगा। इसके बाद भी सरकार ने हमारी मांगों पर गौर नहीं किया तो हड़ताल जारी रहेगी। उधर, स्वास्थ्य कर्मचारियों की हड़ताल से फिटनेस प्रमाण पत्र, दिव्यांग प्रमाण पत्र आदि कार्य नहीं हो पा रहा है। लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ रहा है।

धरने पर एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष शैलेंद्र कुमार, जिला मंत्री मोहम्मद आदिल, संजोग कुमार सक्सेना, अनिल कुमार, अभिषेक गौरव, उमेश त्यागी, बाबर खां, मुकेश सक्सेना, जगमोहन सक्सेना, मुजीब उर रहमान, ऋतु अग्रवाल, नीरज चंद्रा, नजमा सुल्तान, राजेश कुमार, ब्रहमपाल सिंह, भूपेश पांडेय, एमए खान, आलोक कुमार, लईक अहमद आदि मौजूद रहे।