मुस्लेमीन, रामपुर : मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीन कब्जाने के आरोप में सांसद आजम खां के खिलाफ 30 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। इन मामलों की जांच एसआइटी द्वारा की जा रही है। एसआइटी आजम खां को पांच बार पूछताछ के लिए बुला चुकी है। उनकी पत्नी और दोनों बेटों से भी पूछताछ की जा चुकी है। उनके दोस्त विधायक नसीर अहमद खान से भी तीन बार पूछताछ की गई है। इसके बाद भी एसआइटी को सवालों के सही जवाब नहीं मिल पा रहे हैं।

जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीन कब्जाने के आरोप में आजम खां के खिलाफ आलियागंज गांव के 26 किसानों ने भी मुकदमे दर्ज कराए हैं। जमीन संबंधी मुकदमों की जांच के लिए पुलिस पुलिस अधीक्षक डॉक्टर अजय पाल शर्मा ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम बनाई है। यह टीम मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट के पदाधिकारियों को बुलाकर उनसे पूछताछ कर रही है।

दरअसल, जौहर ट्रस्ट ही यूनिवर्सिटी को चलाता है। आजम खां इस ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं, जबकि उनकी पत्नी राज्यसभा सदस्य डॉ. तजीन फात्मा, बेटे विधायक अब्दुल्ला और अदीब आजम भी इसके सदस्य हैं। उनके दोस्त विधायक नसीर अहमद खां ट्रस्ट के संयुक्त सचिव हैं। एसआइटी इन लोगों से कई बार पूछताछ कर चुकी है। आजम खां तो पांच बार एसआइटी के सामने पेश हो चुके हैं। पहले तो दो बार उन्होंने पूछताछ के लिए टाइम लिया, लेकिन बाद में बयान दर्ज कराए। सबसे पहले 30 सितंबर, उसके बाद दो, चार, पांच और 11 अक्टूबर को भी आजम खां एसआइटी के सामने पेश हो चुके हैं। लेकिन, एसआइटी उनसे पूछताछ करने के बाद भी संतुष्ट नहीं है।

एसआइटी प्रभारी दिनेश गौड़ का कहना है कि सांसद से जो सवाल पूछे जा रहे हैं, उनके सही जवाब नहीं मिल सके हैं। यूनिवर्सिटी की जमीनों के संबंध में रिकॉर्ड मांगे जाते हैं तो वह कह देते हैं कि अदालत में पेश करेंगे। दूसरी और आजम खां का कहना है कि उनसे ऐसे सवाल किए जा रहे हैं, जिनका जमीनों से कोई संबंध नहीं है। उन्हें अपमानित करने के लिए बार-बार थाने बुलाया जा रहा है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप