रामपुर : राशन कार्ड प्रक्रिया में काफी बदलाव आ गया है। पहले सबके लिए सुलभ होने वाले राशन कार्ड अमीर परिवारों को बाय-बाय कह चुका है। अब राशन कार्ड रखने के अधिकारी वे ही लोग हैं, जिन्हें वास्तव में सस्ते राशन की आवश्यकता है। विभाग ने इसके लिए मिले लक्ष्य को शत प्रतिशत पूरा कर लिया है। वर्तमान में रामपुर जनपद में ऐसे 434021 लाभार्थियों को राशन उपलब्ध करवाया जा रहा है।

राशनकार्ड मात्र पहचान के लिए बनवाना अब संभव नहीं है। जिन्हें सस्ते राशन की वास्तव में जरूरत है, उनका ही राशन कार्ड बनाया गया है। खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत सिर्फ पात्र गृहस्थियों को ही राशन कार्ड दिए गए हैं। एनएफएसए के अंतर्गत भोजन के अधिकार का मानक निर्धारित है। इसके लिए राशन कार्ड धारक को प्रति यूनिट पांच किलो खाद्यान्न देने की व्यवस्था है। मतलब यह कि पात्र व्यक्ति के घर में जितने लोग होंगे, उनके हिसाब से परिवार को राशन उपलब्ध करवाया जाएगा। पात्र गृहस्थी के लिए कुछ मानक तैयार किए गए हैं। परिवार में चार पहिया वाहन, ट्रैक्टर व पांच केवीए या उससे अधिक का जनरेटर नहीं होना चाहिए। लाभार्थी आयकरदाता न हो, परिवार में किसी सदस्य के पास अकेले या अन्य सदस्य के नाम पांच एकड़ से अधिक सिचित भूमि न हो। इसके अलावा परिवार में एक से अधिक शस्त्र लाइसेंस न हों। समस्त सदस्यों की वार्षिक आय ग्रामीण क्षेत्र में दो लाख रुपया तथा शहरी क्षेत्र में तीन लाख रुपये से अधिक न हो। शहरी क्षेत्र में परिवार के पास 100 वर्ग मीटर से अधिक आवासीय प्लॉट या 80 वर्ग मीटर या उससे अधिक का व्यवसायिक भू भाग न हो। वर्ष 2013 में विभाग को नगर के लिए 64.43 प्रतिशत तथा ग्रामीण क्षेत्र को 79.56 प्रतिशत कार्ड बनाने का लक्ष्य मिला था। विभाग द्वारा लक्ष्य पूरा कर लिया गया है।

डीएसओ रीना कुमारी के अनुसार विभाग को 2013 से अब तक जिले भर से 511232 आवेदन प्राप्त हुए थे। उन पर पात्रता की जांच के लिए सत्यापन का कार्य भी किया गया, जिसके बाद जनपद के नगरीय व ग्रामीण क्षेत्रों के कुल 434021 परिवार ही इसके लिए पात्र पाए गए। इनमें 36000 कार्ड अंत्योदय के हैं। सब लाभार्थियों को कार्ड जारी कर दिए गए हैं। इनमें नगर क्षेत्र के अंत्योदय कार्डों की संख्या 7305 है तथा पात्र गृहस्थी कार्ड 83366 परिवारों के बनाए गए हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में अंत्योदय कार्ड 27329 परिवारों को तथा पात्र गृहस्थी कार्ड 316021 परिवारों के बनाए गए हैं। इस प्रकार ग्रामीण क्षेत्र में कुल 343350 तथा नगरीय क्षेत्र में 90671 लाभार्थियों को राशन कार्ड उपलब्ध कराए गए हैं।

2013 से अब तक 511232 आवेदन आए थे। उनमें से 434021 परिवार वास्तव में पात्र पाए गए। उनके कार्ड बना दिए गए हैं। इनमें 36 हजार अंत्योदय कार्ड भी शामिल हैं। हमने मिला लक्ष्य पूरा कर लिया है। पूरा प्रयास किया जाता है कि वास्तविक लाभार्थियों तक उनका हक हर हाल में पहुंचे। -रीना कुमारी, जिला पूर्ति अधिकारी

Posted By: Jagran