जागरण संवाददाता, सैफनी : ग्राम बिचपुरी लालजी के ग्रामीणों ने राशन डीलर पर सरकारी राशन का गेहूं आढ़त पर बेचने और सप्लाई इंस्पेक्टर पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए राशन डीलर के खिलाफ कार्रवाई न करने के विरोध में प्रदर्शन किया। इस संबंध में एसडीएम से दोबारा शिकायत की।

ग्राम बिचपुरी लालजी निवासी राशन डीलर का पति कृपाल सिंह रविवार की दोपहर ई-रिक्शा में सरकारी राशन के बोरों में भरा नौ बोरी गेहूं बेचने के लिए शाहबाद-बिलारी रोड पर कासम नगला गांव में एक आढ़त पर पहुंचा। इस दौरान उसके गांव के कुछ ग्रामीण भी आढ़त पर पहुंच गए। राशन डीलर पर सरकारी राशन का गेहूं बेचने का आरोप लगाया। उन्होंने इसकी शिकायत शाहबाद के एसडीएम से की। इस पर शाहबाद से पूर्ति निरीक्षक सनत कुमार जांच करने मौके पर पहुंचे।

ग्रामीणों का कहना है कि पूर्ति निरीक्षक ने शिकायतकर्ताओं की बात नहीं सुनी और सीधे राशन डीलर के घर चले गए। बिना जांच किए ही आढ़त पर बिकने आएं गेहूं को किसानी का गेहूं बताने लगे, जबकि वह सरकारी बोरियों में भरा था। पूर्ति निरीक्षक ने उन बोरियों पर सरकारी सिलाई न होने पर उसे सरकारी गल्ला मानने से इंकार किया। साथ ही राशन डीलर के गल्ले का स्टॉक भी पूरा होना बताया। इस पर ग्रामीणों ने पूर्ति निरीक्षक पर राशन डीलर के साथ मिलीभगत करने का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया। इसके बाद दोबारा से इस मामले की एसडीएम से शिकायत कर जांच की मांग की।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस