जागरण संवाददाता, रामपुर: राम मंदिर आंदोलन में वरिष्ठ अधिवक्ता सत्यपाल सैनी की भी अहम भूमिका रही है। कारसेवकों की कानूनी परेशानियां दूर कराने के लिए वह हमेशा तैयार रहे। उन्होंने जिले में गिरफ्तार किए गए सभी कार सेवकों की जमानतें कराने के लिए पैरवी की। किसी से कोई पैसा नहीं लिया।

अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण होने जा रहा है। पांच अगस्त को भूमि पूजन के साथ ही नींव रखी जाएगी। रामभक्तों का यह सपना पूरा होने में लंबा समय लग गया। इसके लिए उन्होंने कई बार आंदोलन भी किया। 1990 और 1992 में बड़े पैमाने पर आंदोलन किया गया। इस दौरान कारसेवकों को गिरफ्तार भी किया गया। रामपुर से भी लोग कारसेवा के लिए अयोध्या जा रहे थे। अनेक लोग अयोध्या पहुंचे, जबकि बड़ी संख्या में कारसेवक रामपुर में ही गिरफ्तार कर लिए गए। अस्थायी जेलों में बंद किया गया। मुरादाबाद की जेल भी भेजा गया। इन्हे जेल से छुडाने के लिए अधिवक्ता सत्यपाल सिंह सैनी आगे आए। उन्होंने सभी कारसेवकों की जमानत कराई। कहते हैं कि इस काम के उन्होंने किसी से कोई पैसा नहीं लिया। तब वह भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला मंत्री भी थे। पूर्व मंत्री शिव बहादुर सक्सेना के साथ वह भी मुरादाबाद की जेल में बंद भी हुए थे। उनकी इच्छा थी कि राम मंदिर का निर्माण शीघ्र पूरा हो और अब यह घड़ी आ गई है। पांच अगस्त को प्रधानमंत्री अयोध्या में भूमि पूजन करेंगे। भव्य राम मंदिर निर्माण से भारत फिर से विश्व में अपना गौरव प्राप्त कर सकेगा। श्री सैनी 2017 में प्रदेश में भाजपा सरकार बनने पर जिला शासकीय अधिवक्ता भी बनाए गए, लेकिन, पिछले साल सेवानिवृत हो चुके हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस