जागरण संवाददाता, रामपुर : रक्षा बंधन इस बार सोमवार को मनाया जाएगा। कोरोना से बचाव को लेकर घोषित साप्ताहिक बंदी के अंतर्गत रविवार को शहर के सभी बाजार बंद रहे, लेकिन रक्षा बंधन के चलते सरकार द्वारा राखी और मिठाइयों की दुकानों को खोलने की छूट दी गई। इसके लिए ज्वालानगर में राम-रहीम पुल के पास, मिस्टन गंज, पुराना गंज, सिविल लाइंस आदि में राखियों की दुकानें सजीं। इन दुकानों पर रविवार को सुबह से ही राखी खरीदने के लिए लोगों की भीड़ रही। रक्षा बंधन पर राखी बांधने के बाद भाई का मुंह मीठा कराने की परंपरा है। इसके चलते शहर में मिठाइयों की दुकान पर भी लोगों ने जमकर खरीदारी की।

रक्षा बंधन पर दुकानदारों ने इस बार चीन से चल रही तनातनी और ग्राहकों के रूझान को देखते हुए चीन की बनी राखियां नहीं मंगाईं। बाजारों में दुकानों पर स्वदेशी राखियां ही दिखाई दीं। दुकानों पर बच्चों से लेकर बड़ों तक के मन पंसद के हिसाब से राखी की आकर्षक रेंज थीं, जिनमें कलावा, धागों से बनी छोटी राखियां ग्राहकों को खूब पसंद आईं। इनमें रूद्राक्ष, नग, मोती, लकड़ी के डिजाइन आदि की राखियां हैं। बच्चों के लिए गुड़िया, गुड्डे, कार्टून, डोरीमोन, सितारा, तितली आदि की राखियां थीं। दुकानों पर इस बार 10 रुपये से लेकर लगभग 500 रुपये तक की राखी मौजूद थीं। इसके अलावा शहर में जगह-जगह मिठाइयों की दुकानें भी सजी थी। इन दुकानों पर सुबह से ही लोगों ने खरीदारी करनी शुरू कर दी, शाम के समय काफी भीड़ बढ़ गई। लोगों ने शारीरिक दूरी का पालन करते हुए मिठाइयां खरीदीं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस