रामपुर : राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के अंतर्गत गुरुवार को अधिकारियों ने प्रचार वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। बाद में आंबेडकर पार्क में गोष्ठी कर बस, ट्रक, आटो आदि वाहनों के चालकों को यातायात नियमों के फायदे समझाए गए। 18 जनवरी से जिले में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह मनाया जा रहा है। इसके तहत रोजाना कार्यक्रम आयोजित कर लोगों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक किया जा रहा है।

गुरुवार को सड़क सुरक्षा नियमों की जानकारी के लिए प्रचार वाहन को आंबेडकर पार्क से रवाना किया गया। जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम और भाजपा जिलाध्यक्ष अभय गुप्ता ने प्रचार वाहन को हरी झंडी दिखाई। इसके बाद आंबेडकर पार्क में गोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें भाजपा जिलाध्यक्ष ने वाहन चालकों को यातायात नियमों का पालन करने पर जोर दिया। इससे पहले कलेक्ट्रेट के एनआइसी रूम में मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश स्तर पर राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह का शुभारंभ किया। साथ ही कई परियोजनाओं का उद्घाटन व लोकार्पण भी किया गया। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का सजीव प्रसारण भी हुआ। उधर, एआरटीओ सुरेंद्र सिंह ने जनसामान्य को यातायात के सभी नियमों का पालन करने की शपथ दिलाई। यात्री कर अधिकारी अनीता वर्मा के नेतृत्व में हेलमेट और सीट बेल्ट का प्रयोग न करने वालों के खिलाफ चेकिग अभियान चलाया। यातायात नियमों का पालन कर देश के जिम्मेदार नागरिक बनें

राजकीय रजा स्नातकोत्तर महाविद्यालय में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह पर हुई गोष्ठी में वक्ताओं ने लोगों को यातायात नियमों का पालन करने पर जोर दिया। महाविद्यालय के प्राचार्य डा. पीके वाष्र्णेय ने कहा कि कई बार हम जानते हुए भी यातायात नियमों की अनदेखी कर देते हैं और दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं। ऐसा न करें। यातायात नियमों का पालन करके हमें जिम्मेदार नागरिक बनना चाहिए। एनसीसी प्रभारी लेफ्टिनेंट डॉ. प्रवेश कुमार ने कहा कि सभी नागरिक यातायात के नियमों को पालन निष्ठापूर्वक करें, क्योंकि इससे वह स्वयं अपनी तथा दूसरों के प्राणों की रक्षा कर सकते हैं। डॉ. अजय विक्रम सिंह ने कहा कि यातायात नियमों का पालन करके हम सड़क हादसों से बच सकते हैं। कई बार यातायात नियमों की अनदेखी पर होने वाली दुर्घटना में बीमा कंपनियां कोई क्लेम स्वीकार नहीं करती हैं। डॉ. मुजाहिद अली ने यातायात नियमों का पालन करके हम दुर्घटना से स्वयं तो बचेंगे ही, साथ ही साथ अन्य राहगीरों को भी बचा सकते हैं। एनएसएस प्रभारी डॉ. रामकुमार ने कहा कि सड़क पर ज्यादातर दुर्घटनाएं राहगीरों की लापरवाही से होती हैं। यदि वाहन चलाने वाले और सड़क पर पैदल चलने वाले दोनों ही यातायात के नियमों का पालन करें तो सड़क दुर्घटनाएं नहीं होंगी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप