जागरण संवाददाता, रामपुर : भगवान वाल्मीकि जयंती के उपलक्ष्य में भारतीय वाल्मीकि धर्म समाज भावाधस की ओर से रविवार को शहर में धूमधाम के साथ प्रभातफेरी निकाली गई। इसमें ढोल की थाप पर लोग जमकर थिरके। प्रभातफेरी का जगह-जगह लोगों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया।

प्रभातफेरी का मुहल्ला तोपखाना में बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष श्याम लाल एडवोकेट ने फीता काटकर शुभारंभ किया। प्रभातफेरी मुहल्ला तोपखाना से वाल्मीकि जी का गुणगान करते हुए मुहल्ला चरखवाली मस्जिद, मदरसा कोहना, अखून खेलान, अस्तबल, पक्का बाग, मुहल्ला, झंडा, हाथीखाना, कुंडा होती हुई कोसी मार्ग स्थित वाल्मीकि मंदिर पर जाकर संपन्न हुई। यहां पर वाल्मीकि समाज के लोगों ने प्रभातफेरी का पुष्पवर्षा कर स्वागत किया।

भावाधस के राष्ट्रीय प्रमुख वीरेश भीम अनार्य ने भगवान वाल्मीकि जी के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला। कहा वाल्मीकि रामायण में हर समाज और हर धर्म के लोगों के लिए कुछ न कुछ भगवान वाल्मीकि द्वारा कहा गया है। कहा वाल्मीकि जी ने लव-कुश को शिक्षित कर देश में शिक्षा कर अलख जगाई। इससे सीख लेते हुए वाल्मीकि समाज भी भगवान वाल्मीकि के संदेश को अपनाए और अपने बच्चों के हाथ में झाड़ू नहीं बल्कि कलम थमाए।

इस मौके पर शंकर बब्लू, राम गोपाल, करन लाल, राजू आंबेडकर, महेश नागराज, महीपाल, धर्म कुमार, अनिल राज, आनंद प्रकाश, शिवा गौतम, मत्तन लाल, शिवेंद्र भारती, कमल द्रविड, भरत कुमार, अर्जुन कुमार, अशोक कुमार, सुमित, दिनेश बाबू, प्रमोद आदिवासी, अविनाश चंद्रा, मुन्नू दादा, शरद बाबू, मुकेश चौधरी, दिलीप बाबू, अनिल गुडडू, धर्मेंद्र, आदित्य सेठ, सोनू कठेरिया आदि मौजूद रहे।

उधर शाम को भावाधस यूथ विग की ओर से मुहल्ला पक्का बाग में सतसंग का आयोजन किया गया। इसमें सभी ने भगवान वाल्मीकि के भजन गाकर उनका गुणगान किया। इस दौरान जिला उपाध्यक्ष शिवा दैत्य ने कहा कि 14 अक्टूबर को वाल्मीकि मंदिर से शाम पांच बजे भव्य शोभायात्रा निकाली जाएगी, जिसका उदघाटन उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण सहकारी संघ के अध्यक्ष सूर्य प्रकाश पाल और अध्यक्षता दशरथ सिंह करेंगे। इस मौके पर एकलव्य भीम, शिवा दैत्य, बाबू वाल्मीकि, अरुण, आदेश कुमार, नितिन, विपिन, सनी, विनय, मत्तन, दददा आदि मौजूद रहे।

उधर भावाधस की ओर से आदर्श कालोनी स्थित कार्यालय पर विचार गोष्ठी एवं सम्मान समारोह आयोजित किया गया, जिसका शुभारंभ वरिष्ठ समाजसेवी राम रतन लाल ने भगवान वाल्मीकि के चित्र पर माल्यार्पण कर और दीप प्रज्ज्वलित कर किया। राष्ट्रीय निदेशक वीरोत्तम दीप लव ने वाल्मीकि जी के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने शरद पूर्णिमा का महत्व भी बताया। इस दौरान सुभाष चंद्र, राजीव राज, अमरनाथ वाल्मीकि, राम रतन लाल, शिवा गौतम, रामराज, सलवेंद्र विराट, अंकुर, दिव्यांशु, पवन आदि ने अपने विचार व्यक्त किए। अध्यक्षता अमरनाथ वाल्मीकि ने की। इस दौरान समाजसेवियों को पगड़ी बांधकर सम्मानित किया गया।

उधर भगवान वाल्मीकि सेंट्रल कमेटी की ओर से रविवार की सुबह छह बजे राधा रोड से प्रभातफेरी निकाली गई। महंत राम प्रकाश पुजारी ने झंडी दिखाकर प्रभातफेरी को रवाना किया। प्रभातफेरी सिविल लाइंस के विभिन्न मुहल्लों से होती हुई राधा रोड स्थित वाल्मीकि मंदिर पर जाकर संपन्न हुई। प्रभातफेरी का जगह-जगह लोगों ने स्वागत किया। कमेटी के अध्यक्ष संजय समर्पित ने भगवान वाल्मीकि जी के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि सोमवार को रात आठ बजे वाल्मीकि सत्संग होगा। इस मौके पर हरि बाबू राज, मोहन, विजय रावत, विनोद दिलावर, सुरेश वाल्मीकि, विजय करौतिया, सुरेंद्र राज, दिनेश, शन्नू, अमित बाबा, नितिन कटारिया, अम्बर कटारिया, राम कुमार, प्रमोद राज, अशोक काका, रेशू, शरद समर्पित, शीतल, शीला देवी, रानी देवी, शंकरवती, सुनीता देवी, शकुंतला देवी, मुन्नी देवी आदि मौजूद रहे। चेतना यात्रा निकाली रामपुर : भगवान वाल्मीकि जयंती के उपलक्ष्य में आदि धर्म समाज की ओर से रविवार को मुहल्ला तोपखाना वाल्मीकि बस्ती से वाल्मीकि चेतना यात्रा निकाली गई, जिसका उदघाटन अमरनाथ वाल्मीकि ने किया। चेतना यात्रा का उद्देश्य समाज में फैले अंधविश्वास, शिक्षा की तरफ समाज के लोगों का ध्यान आकर्षित करने और नशा मुक्ति को प्रेरित करना था। चेतना यात्रा का जगह-जगह लोगों ने स्वागत किया। राष्ट्रीय प्रचारक अमर आदिवासी ने भगवान वाल्मीकि के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला। इस मौके पर अनिल रावत, राकेश करोतिया, सुधीश भारती, नरेश कुमार, नेगपाल अम्बेडकर, अरुण कुमार, जीवन सिंह, विकास, अमर आदिवासी आदि मौजूद रहे। वाल्मीकि समाज के लोग बच्चों को दें अच्छी शिक्षा रामपुर : वाल्मीकि शक्ति दल की ओर से वाल्मीकि जयंती के उपलक्ष्य में रविवर को मुहल्ला चादर वाला बाग में विचार गोष्ठी आयोजित की गई। प्रमुख प्रेम प्रकाश ने वाल्मीकि समाज से आहवान किया कि वह वाल्मीकि की शिक्षा को अपने जीवन में उतारें, जैसे उनके हाथ में कलम है अपने बच्चों के हाथ में भी कलम दें और उन्हें ऊंचाइयों तक पहुंचाने में सहयोग करें। कहा रामायण से सीख मिलती है कि माता-पिता का आदर करें। भगवान श्री राम अपने पिता के वचन को निभाने के लिए हंसते-हंसते 14 वर्ष के वनवास पर चले गए थे। गोष्ठी के बाद सभी सदस्य एकत्र होकर कुष्ठ आश्रम गए और वहां पर भोजन कराया। इस मौके पर संजू प्रकाश, विनोद कुमार, बलवीर, धर्मकुमार वाल्मीकि, आकाश प्रकाश, सीमा देवी, विन्नी वाल्मीकि, अज्जू वाल्मीकि, बॉबी, आशू, राकेश कुमार, अन्नू वाल्मीकि, हर्षित आदि मौजूद रहे। सतसंग में वाल्मीकि जी के भजनों पर झूमे लोग रामपुर : भगवान वाल्मीकि सेवा समिति की ओर से शनिवार की रात मुहल्ला संजय नगर हाथीखाना स्थित वाल्मीकि मंदिर में सतसंग आयोजित किया गया, जिसका शुभारंभ उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण सहकारी संघ के अध्यक्ष सूर्य प्रकाश पाल ने भगवान वाल्मीकि जी के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया। इसके बाद प्रशांत एंड पार्टी ने भगवान वाल्मीकि के सुंदर-सुंदर भजन सुनाकर भगवान वाल्मीकि का गुणगान किया, जिन्हें सुन सभी खूब झूमे। इस दौरान अध्यक्ष लववीर चौहान ने समाज के लोगों से बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने पर जोर दिया। संचालन विवेक सिधवासी ने किया। इस मौके पर राकेश सिधवासी, सुदेश चौहान, विजयपाल, लक्की द्रविड, शशांक राज, हिमांशु चौहान, विकास राव, राहुल राज, राजवीर सिंह, जतिन बब्बर, अंकित सक्सेना, सुमित, शुभम ठाकुर आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप