रामपुर: स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डॉ. देवेश चौधरी ने भोट में छापेमारी कर बिना रजिस्ट्रेशन चल रहे मेडिकल स्टोर को सील कर दिया। वहीं लालाबाला बाग चौराहे पर दो पैथोलाजी लैब संचालकों को नोटिस जारी कर कागजात दिखाने को कहा है। विभाग की इस कार्रवाई से संचालकों में खलबली मची रही।

नोडल अधिकारी ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि गांव भोट के मुख्य चौराहे पर बिना रजिस्ट्रेशन के मेडिकल स्टोर चल रहा है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की टीम के साथ रमेश मेडिकल पर छापा मारा। मेडिकल संचालक रमेश कुमार कोई कागजात नहीं दिखा सका। जिसके चलते मेडिकल को सील कर दिया। विभाग की इस कार्रवाई की भनक जब आस-पास के मेडिकल स्टोर तथा लैब संचालकों को लगी तो वह अपने-अपने शटर गिऱाकर रफूचक्कर हो गए। स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी ने कहा कि आगे भी ऐसे ही विभागीय कार्रवाई जारी रहेगी। वहीं लालाबाला बाग चौराहे के दो पैथोलॉजी लैब संचालकों को नोटिस जारी कर कागजात दिखाने को कहा है। उनके बारे में भी शिकायतें मिली हैं।

---------------

मरीजों को घंटों लाइनों में लगना पड़ रहा

संवाद सहयोगी, बिलासपुर : क्षेत्र में वायरल बुखार और खांसी जुकाम समेत आदि संक्रामक बीमारियों ने पैर पसार लिए हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर भी खूब भीड़ देखी जा रही है। पर्चा बनवाने से लेकर, दवाई लेने में मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कुछ ग्रामीणों का कहना कि गांव बेगमाबाद में बने पीएचसी पर चिकित्सक के नहीं बैठने से परेशानी हो रही है। चिकित्सा अधीक्षक डा. सत्येंद्र सिंह ने बताया कि बेगमाबाद पीएचसी पर तैनात चिकित्सक का देहांत हो गया है। जल्दी ही यहां चिकित्सक की तैनाती की जाएगी।

Edited By: Jagran