स्वार, जासं : मंगलवार की रात मदरसा फलाहेदारुन मुहल्ला रसूलपुर स्थित पठानों वाली मस्जिद में जलसा-ए-दस्तारबंदी का आयोजन किया गया।

जलसे को खिताब फरमाते हुए दिल्ली के मुफ्ती इश्तियाकुल कादरी, मुरादाबाद के मुफ्ती मोहम्मद सुलेमान, चांदपुर के मुफ्ती सुलतान ने कहा की मदरसों में दीन और दुनियाभर में अमन की तालीम दी जाती है। मदरसे दीन और आफसी खुलूस का दर्स दिया जाता है। यह दीन के किले के तौर पर काम कर रहे हैं। उन्होंने दीन के साथ ही जदीद तालीम देने के बंदोबस्त करने पर भी जोर दिया। नाते पाक की तिलावत फरहान बरकती, फैजान निजामी ने कलाम पेश किए । इसके बाद हाफिज मोहम्मद जकी, हाफिज अब्दुल रहमान, हाफिज मोहम्मद समीर, हाफिज फैज अहमद की दस्तारबंदी हुई। जलसे में मुफ्ती मोहम्मद यूसुफ, अब्दुल रहमान, मौलाना नाजिम, सय्यद इशहाक मियां, कारी शाकिर रजा, कारी गुलाम रसूल, जामा मस्जिद के इमाम कारी अमीर अहमद, कारी हसन सलीम, डा. युनूस, डॉ. महफूज आदि मौजूद रहे। जलसे की सरपस्ती उस्ताजुल उलेमा, मौलाना मोहम्मद शब्बन खां नईमी व निजामत मुफ्ती फराग अहमद नईमी ने की। जासं

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप