रामपुर, जेएनएन। प्रदेश सरकार ने आर्थिक तंगी एवं भुखमरी से जूझते परिवारों की मदद को महत्वपूर्ण फैसला लिया है। ग्रामीण क्षेत्रों में अत्यधिक निर्धन व निराश्रित परिवारों में भुखमरी की दशा, बीमारी एवं मृत्यु होने पर राज्य वित्त आयोग से प्राप्त धनराशि से आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। इसको लेकर प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह ने जिलाधिकारी को पत्र लिखा है।

पत्र में कहा है कि भुखमरी की स्थिति में ऐसे परिवार को तत्काल ग्राम पंचायत द्वारा एक हजार रुपये की सहायता राज्य वित्त आयोग की धनराशि से उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके साथ ही पात्रता अनुसार राशन कार्ड न होने पर उसे बनवाने की कार्रवाई भी की जाएगी। जिससे भविष्य में भरण पोषण के लिए उन्हें राशन उपलब्ध हो सके। बीमारी की स्थिति में यदि उस परिवार के पास आयुष्मान भारत अथवा जन आरोग्य योजनाओं का कार्ड नहीं है तो उन्हें राज्य वित्त आयोग से ही तत्काल एक बार दो हजार रुपये की सहायता उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके बाद उक्त कार्ड भी बनवा कर दिए जाएंगे। इसके अलावा यदि गरीबी के कारण किसी परिवार में दाह संस्कार करने के लिए धन की व्यवस्था नहीं है तो तत्काल ग्राम पंचायत परिवार को पांच हजार रुपये की सहायता उपलब्ध करवाएगी। यदि परिवार में कोई भी सदस्य नहीं है जो अंत्येष्टि कर सके तो आर्थिक सहायता के साथ ही ग्राम पंचायत इसकी व्यवस्था भी करेगा। इस योजना के लिए परिवारों का चयन ग्राम पंचायतों द्वारा परिवार की आर्थिक तंगी व परिस्थितिजन्य स्थितियों को ध्यान में रखते हुए किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस