रामपुर : एआईएमटी कंप्यूटर एजुकेशन में बच्चों को प्राथमिक उपचार के तरीके सिखाए गए। इस दौरान डीपीएमआई के हेड ट्रेनर निशांत गैक्वाड ने बच्चों को किसी भी तरह की घटना होने पर किस तरह से प्राथमिक उपचार किया जा सकता है बताया। कहा कि स्वयं भी आपातकाल की स्थिति में हिम्मत नहीं हारनी चाहिए तथा प्राथमिक उपचार करना चाहिए। उन्होंने बच्चों को आग लगने, सांप काटने तथा किसी भी प्रकार की अन्य चोट लगने पर किस तरह से प्राथमिक उपचार से उसका उपाय किया जा सकता है सिखाया। बच्चों को फूड प्वाइजनिग होने तथा नाक से खून आने पर किए जाने वाले उपायों को भी समझाया उन्होंने सभी बच्चों से गर्मी के मौसम में फिल्टर किया हुआ पानी पीने तथा ताजा बना हुआ खाना खाने की अपील की। बच्चों को डॉक्टर बनने के लिए की जाने वाली तैयारियों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। बताया कि कभी भी किसी तरह की बीमारी होने पर तांत्रिक तथा बाबाओं के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए। बच्चे हमेशा वैज्ञानिक सोच रखें तथा हादसा होने पर केवल डॉक्टर से ही सलाह लें। बताया कि सभी अपनी जिम्मेदारी को समझें। इमरजेंसी की स्थिति में कैसे मरीज को संभाले ये भी सिखाया। इस अवसर पर इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर मोहम्मद अहमद, रमसा, नासिर आदि रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस