जागरण संवाददाता, रामपुर : जिला जज अलका श्रीवास्तव ने कोठी खासबाग की सुरक्षा कराने के आदेश दिए हैं। सुरक्षा में जो भी खर्च आएगा, उसकी जिम्मेदारी पक्षकारों द्वारा वहन की जाएगी। जिला जज ने बुधवार को इस मामले में सुनवाई करते हुए यह आदेश जारी किए। नवाब खानदान में अरबों रुपये की संपत्ति को लेकर लंबे समय से मुकदमेबाजी चल रही थी। करीब छह माह पहले इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शरीयत के हिसाब से बंटवारा करने के आदेश दिए। बंटवारे की जिम्मेदारी जिला जज को सौंपी गई है। इसके लिए उन्होंने एडवोकेट कमिश्नर नियुक्त किए हैं। बुधवार को उन्होंने आदेश जारी किए कि कोठी खासबाग में ताले खुलने के बाद इसकी चल संपत्ति की सुरक्षा अंतिम बंटवारे की कार्रवाई तक सुनिश्चित किया जाना न्यायालय द्वारा वांछनीय है। इसलिए, इस संबंध में पुलिस अधीक्षक को पत्र जारी किया जाए कि कोठी खासबाग जिसमें करीब 280 कमरे होना बताए गए हैं, का निरीक्षण करें और सुरक्षा हेतु जितनी भी फोर्स की आवश्यकता हो, उतनी न्यायालय के अग्रिम आदेश तक कराना सुनिश्चित करें। सुरक्षा पर आने वाले व्यय प्रतिदिन, साप्ताहिक या मासिक जो भी हो, उसका विवरण न्यायालय में प्रस्तुत करें। यह व्यय पक्षकारों द्वारा तय होगा। इस संबंध में प्रत्येक पक्षकार, जो 16 हैं, एक सप्ताह के अंदर 25-25 हजार रुपये ट्रेजरी चालान के माध्यम से सरकारी खजाने में जमा करें। उन्होंने एडवोकेट कमिश्नर और पक्षकारों को भी फोटो और वीडियो को लेकर निर्देश दिए हैं। आदेश की कापी जिला मजिस्ट्रेट को भी भेजने को कहा, ताकि उनके द्वारा गठित टीम द्वारा आदेश का अनुपालन कराना सुनिश्चित किया जाए। डीएम से की सुरक्षा की मांग

रामपुर : नवाब मोहम्मद अली खां उर्फ मुराद मियां ने जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह से मुलाकात कर कोठी खासबाग की सुरक्षा व्यवस्था कराने की मांग की। कोठी खासबाग में सर्वे और मूल्यांकन का काम चल रहा है। स्ट्रांग रूम और आरमरी भी है। इनकी सुरक्षा पर जोर दिया। इस मौके पर साइम एजाज खां और जुहेब जैदी भी मौजूद रहे। जासं

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस