रामपुर : युवती के लापता होने के मामले में जांच करने आई बरेली जिले की पुलिस ने सिविल लाइंस क्षेत्र से एक दुकानदार को उठा लिया। इसकी जानकारी मिलने पर व्यापारियों ने हंगामा किया। वे थाने पहुंच गए और बिना किसी जानकारी के दुकानदार को उठाने पर आपत्ति जताई। बाद में बरेली पुलिस को उसे छोड़ना पड़ा। इसके बाद मामला शांत हुआ।

मामला बरेली जिले की एक युवती से जुड़ा है। युवती आठ अप्रैल से गायब है। उसके परिजनों ने बारादरी थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। उसकी जांच कर रही महिला दारोगा माया बुधवार शाम को टीम के साथ यहां आई थी। टीम को जानकारी मिली थी कि युवती बीपी कालोनी निवासी सरबजीत सिंह के साथ गई है। सरबजीत सिंह कालोनी के ही निरबेर सिंह के साथ राधा रोड पर फास्ट फूड की दुकान करते थे। बरेली पुलिस उनकी दुकान पर आई और पार्टनर निरबेर सिंह को उठाकर ले गई। उसे सिविल लाइंस कोतवाली पूछताछ के लिए ले आई। इसकी जानकारी जब व्यापारियों और परिजनों को मिली तो वे इकट्ठा होकर थाने आ गए। उनके साथ बार एसोसिएशन के महासचिव सतनाम सिंह मट्टू, वीर खालसा सेवा समिति अध्यक्ष अवतार सिंह और सभासदपति गुलशन अरोरा भी थे। उन सभी ने पुलिस द्वारा बिना जानकारी के इस तरह दुकानदार को उठाकर ले जाने पर नाराजगी जताई। हंगामा किया। उनका कहना था कि युवती के परिजन जिस युवक के साथ जाने का आरोप लगा रहे हैं, वह युवक भी गायब है। उसकी गुमशुदगी भी सिविल लाइंस थाने में दर्ज है। पुलिस एक तरफा कार्रवाई न करे। सिर्फ युवती के परिजनों के कहने पर किसी को न उठाए। निष्पक्ष जांच करे। सभासदपति ने बताया कि बाद में बरेली पुलिस ने दुकानदार को छोड़ दिया।

Posted By: Jagran