रामपुर: जनपद में अवैध रूप से संचालित आरा मशीनों के विरूद्ध जिला प्रशासन ने बड़ी कार्रवाई की है।

विभिन्न माध्यमों से आरा मशीनों के अवैध संचालन से संबन्धित प्राप्त हो रही शिकायतों को जिलाधिकारी महेन्द्र बहादुर ¨सह ने गम्भीरता से लेते हुए डीएफओ गजेन्द्र कुमार, नगर मजिस्ट्रेट ओम प्रकाश, उपजिलाधिकारीराकेश कुमार, उपजिलाधिकारी सदर राजेश कुमार एवं उपायुक्त उद्योग सुशील कुमार शर्मा की संयुक्त टीम बनाकर छापेमार कार्रवाई कराई। ताशका, जुठिया, अलीनगर, बढ़पुरा, बगी, शर्की आदि क्षेत्रों में स्थापित 16 आरा मशीनों की टीम ने मौके पर जाकर सघन जांच की। इस दौरान नौ आरा मशीनें अवैध रूप से संचालित पाई गई, जिनमें मुशाहिद, शाहबेज, वाजिद, महबूब, जाफर, सरताज आबिद गनी, नईम आदि की देख-रेख में मशीनों का अवैध संचालन पाया गया। टीम द्वारा अवैध आरा मशीनों को सीज करा दिया गया है तथा इन आरा मशीन संचालकों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। साथ ही आगामी दिवसों में जेसीबी के माध्यम से ऐसी अवैध आरा मशीनों को ध्वस्त कराने की भी कार्रवाई जिला प्रशासन एवं वन विभाग द्वारा सुनिश्चित की जाएगी। टीम के छापेमारी की कार्रवाई के दौरान कई स्थानों पर आरा मशीन संचालक भाग खड़े हुए।

जिलाधिकारी ने कहा कि जल्द ही अलग-अलग टीमों का गठन कर जिलेभर में संचालित आरा मशीनों की वैद्यता संबन्धी जांच कराई जाएगी तथा अवैध रूप से संचालित पाई जाने वाली आरा मशीनों को ध्वस्त कराने की भी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि यह मामला पर्यावरण सुरक्षा से जुड़ा हुआ है, इसलिए इसमें दोषी पाए जाने वालों के विरूद्ध सुसंगत धाराओं में कठोर कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। उच्चतम न्यायालय, राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण एवं समय-समय पर शासन द्वारा इस संबन्ध में जारी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराना प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकता है।

Posted By: Jagran