जागरण संवाददाता, रामपुर : सांसद आजम खां संगीन धाराओं में हुए ताबड़तोड़ मुकदमों के बोझ तले दब गए हैं। उनका 22 किलो वजन भी घट गया है और शरीर भी कमजोर हो गया है। आजम खां ने खुद जलसे के दौरान वजन घटने की बात कही।

शहर के मुहल्ला खजान खां के कुआं में हुए जलसे में आजम खां बोले, मेरे ऊपर डकैती, बकरी चोरी, भैंस चोरी, गाय चोरी, किताब चोरी के इतने मुकदमे दर्ज कराए गए हैं कि मेरा 22 किलो वजन घट गया है। मैं तो फिर भी इंसान हूं। अगर डकैती के इतने मुकदमों के नोटिस पेड़ पर लटका दिए जाएं तो उसकी भी शाखें सूख जाएं। उन्होंने भावुक होते हुए कहा कि मेरा गुनाह क्या है। बस यही खता है न कि मैंने गरीबों के बच्चों को अच्छी तालीम दिलाने के लिए यूनिवर्सिटी और स्कूल खुलवा दिए। मैं चाहता हूं कि गरीबों के बच्चे भी इंजीनियर और डॉक्टर बनें। इसीलिए मुझे इतनी बड़ी सजा दी जा रही है। उन्होंने मतदान के दिन पूरी तरह शांति बनाए रखने और अपने वोट के अधिकार को इस्तेमाल करने पर जोर दिया। कहा आज हमें आपके वोट की जरूरत है। आपका वोट ही हमारी ताकत बनेगा।

इस मौके पर विधायक अब्दुल्ला आजम ने कहा कि समाजवादी के लोगों पर बहुत जुल्म किए गए हैं। हमें मतदान के दिन अपनी वोट की ताकत से इसका बदला लेना है। किसी के बहकावे में नहीं आना है। जलसे में सपा के नगराध्यक्ष आसिम राजा, मोहम्मद असलम, शाकिर, जुनैद, सलीम आदि रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप