जागरण संवाददाता, रामपुर : नेता प्रतिपक्ष राम गोविद चौधरी ने कहा कि रामपुर में हो रहे उप चुनाव में पुलिस प्रशासन ने सारी हदें पार कर दी हैं। सपा का बस्ता जिसके घर जाता है, पुलिस पीछे से उसके घर जाती है और धमकाती है। सपा के लोगों को बिना वजह गिरफ्तार किया जा रहा है और जेल भेजा जा रहा है। हमने मुख्यमंत्री, चुनाव आयोग, प्रेक्षक, जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक से बात की, लेकिन कहीं हमारी सुनवाई नहीं हुई। अब हमारे सामने सिर्फ जनता को लेकर आंदोलन करने का रास्ता बचा है। अगर एक दिन में उत्पीड़न बंद नहीं हुआ तो धरना-प्रदर्शन करेंगे। ऐसा हम विचार कर रहे हैं।

नेता प्रतिपक्ष ने गुरुवार शाम सपा कार्यालय पर मीडिया से बात की। कहा कि रामपुर में हम चार दिन पहले भी आए थे। यहां जो उत्पीड़न हो रहा था, उसके बारे में चुनाव आयोग और मुख्यमंत्री को अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने हमें आश्वासन दिया कि रामपुर में निष्पक्ष चुनाव होगा, लेकिन यहां आकर देखा तो पहले से भी ज्यादा उत्पीड़न हो रहा है। सपा के लोगों पर फर्जी मुकदमे हो रहे हैं, उन्हें गिरफ्तार किया जा रहा है। आज भी सपा की साइकिल रैली में शामिल होने आ रहे एक कार्यकर्ता को गंज पुलिस ने पकड़ लिया। शहजादनगर पुलिस ने भी 10 लोगों को बिना वजह पकड़ लिया। हमारे नेतृत्व में विधायकों का दल चुनाव प्रेक्षक से मिला तो उन्होंने एसपी को फोन किया। इस पर गंज पुलिस ने तो कार्यकर्ता को छोड़ दिया, लेकिन शहजादनगर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया। हम सब जगह फरियाद कर चुके हैं, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई। विधायिका और कार्यपालिका लोकतंत्र को कमजोर करने में लगी है। वह 1977 से विधायक बनते आ रहे हैं, कई बार चुनाव प्रभारी बनकर गए हैं, लेकिन ऐसा चुनाव कभी नहीं देखा कि विपक्ष के लोगों को इतना परेशान किया जा रहा हो। अब हम विचार कर रहे हैं कि अगर एक दिन में उत्पीड़न बंद नहीं हुआ तो उसके बाद जनता के साथ धरना-प्रदर्शन किया जाएगा। इसमें विधायक भी शामिल रहेंगे। इस मौके पर विधायक फहीम अहमद, अबरार अहमद, इरफान सौलंकी, पूर्व मंत्री मूलचंद चौहान आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस