प्रसूता की मौत पर कलेक्ट्रेट में हंगामा, लापरवाही का आरोप

रायबरेली : प्राइवेट अस्पताल में गलत इलाज के कारण प्रसूता की मौत का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट में जमकर हंगामा किया। डीएम कार्यालय के सामने प्रदर्शन करते हुए कार्रवाई की मांग करने लगे। मौके पर पहुंची सीओ सिटी वंदना सिंह ने समझा-बुझाकर उन्हें किसी तरह शांत कराया। पीड़ित परिवार ने नेहरू नगर स्थित फिनिक्स हास्पिटल संचालक पर लापरवाही बरतने और आशा बहू, एंबुलेंस चालक पर सांठगांठ करने का आरोप लगाया है। मामला डीह ब्लाक के टेकारी दांदू गांव का है। मृतका के परिवारजन सच्चिदानंद मिश्रा ने बताया कि उसके चचेरे भाई की बेटी शांती देवी को प्रसव पीड़ा होने के पर आशा बहू लेकर जिला अस्पताल पहुंची। वहां से नेहरू नगर निकट इंदिरा नगर पुलिस चौकी स्थित फिनिक्स हास्पिटल लेकर चली गई। प्रसव के बाद शांती की हालत बिगड़ने लगी। स्वजनों का आरोप है कि बिना किसी से पूछे खून चढ़ा दिया गया, जो कि काफी ठंडा था। इससे प्रसूता की हालत और बिगड़ गई। इस पर फिनिक्स हास्पिटल से लखनऊ रेफर कर दिया गया। इस पर प्राइवेट एंबुलेस चालक बहाने से मेडिलाइफ रिसर्च एवं ट्रामा सेंटर ले गया, जहां पर लूटखसोट होती रही। कोई सुधार नहीं होने पर क्वीन मैरी अस्पताल लखनऊ ले जाया गया, जहां प्रसूता की मौत हो गई। पिरवारजन ने फिनिक्स हास्पिटल में लापरवाही, आशा बहू और प्राइवेट एंबुलेंस चालक पर मिलीभगत का आरोप लगाते हुए जांच कराने की मांग की है। प्रकरण संज्ञान में है। मृतका के परिवारजनों ने नेहरू नगर स्थित फिनिक्स हास्पिटल में सही इलाज नहीं होने, आशा बहू और एंबुलेंस चालक पर मिलीभगत करने का आरोप लगाया है। मामले की जांच कराई जा रही है। वंदना सिंह सीओ सिटी महिला के इलाज में किसी तरह की लापरवाही नहीं हुई। यहां पर जब वह आई तो काफी गंभीर थी। उसे क्वीन मैरी लखनऊ के लिए रेफर किया गया था। इसके बाद वह कहां गई कुछ जानकारी नहीं है। इकरार हुसैन, संचालक फिनिक्स हास्पिटल महिला की मौत का मामला संज्ञान में नहीं है। शिकायत मिलने पर आरोपितों के खिलाफ जांच कराई जाएगी। डा. वीरेंद्र सिंह, सीएमओ

Edited By: Jagran