रायबरेली : किराना व्यवसायी से 50 हजार की लूट करने वाले दो लुटेरों को पुलिस ने मुठभेड़ में गिरफ्तार करने का दावा किया है। आरोपितों के कब्जे से 15 हजार रुपये और दो असलहे बरामद किए गए हैं। महराजगंज के लूटकांड में भी इनकी भूमिका बताई जा रही है।

मार्च के अंतिम सप्ताह में खीरों के व्यवसायी शैलेंद्र गुप्त की दुकान पर सरसों का तेल लेने के बहाने लूटपाट की गई थी। स्थानीय पुलिस के साथ ही एसओजी और शहर पुलिस को वारदात का राजफाश करने के लिए एसपी श्लोक कुमार ने लगाया था। मंगलवार की रात राजघाट के पास पुलिस मुठभेड़ में शहर के तिलक नगर निवासी अनुज यादव और शिवगढ़ के नेरथुवा निवासी धुन्नी सिंह पुलिस की पकड़ में आ गए। जरिए सर्विलांस इन दोनों की धरपकड़ के प्रयास काफी दिनों से चल रहे थे। शहर कोतवाल अतुल कुमार सिंह ने बताया कि इन्हीं दोनों ने मिलकर सेमरी चौराहे पर लूटपाट की थी। महराजगंज में पेट्रोलपंप के सेल्समैन से हुई 8.20 लाख की लूट में भी इन दोनों ने रेकी की थी।

सरिया व्यवसायी से मांगी थी एक करोड़ रंगदारी

कोतवाल ने बताया कि आरोपित अनुज यादव ने शहर के प्रतिष्ठित सरिया व्यवसायी से एक करोड़ रुपये रंगदारी मांगी थी। रुपये न देने पर जान से मारने की धमकी दी थी। बताया गया कि आरोपित करीब एक साल तक जेल में रहने के बाद मार्च में रिहा हुआ। इसके बाद लूट की वारदात कर डाली। अनुज और धुन्नी के खिलाफ विभिन्न थानों में दर्जनभर से ज्यादा मामले दर्ज हैं। शहर कोतवाली में भी दोनों के खिलाफ जानलेवा हमले का मामला पंजीकृत किया गया है।

इनसेट--

असलहे के साथ गिरफ्तार

शहर के खपरमलंग के पास वाहन चेकिग के दौरान किला बाजार चौकी इंचार्ज प्रवीर गौतम ने फुर्सतगंज के तेंदुआ निवासी नफीस को 315 बोर के असलहे व कारतूस के साथ गिरफ्तार किया है। चौकी इंचार्ज ने बताया कि नफीस के खिलाफ पहले से लूट, मारपीट सहित कई मामले पंजीकृत हैं। उसने अमेठी में तीन हजार रुपये में असलहा खरीदा था।