रायबरेली, जेएनएन। मातहतों को वर्दी और कानून की ताकत अपनाकर वसूली का तौर तरीका सिखाने वाले थानाध्यक्ष को निलंबित कर दिया गया है। पुलिस अधीक्षक ने यह कार्रवाई उस ऑडियो को संज्ञान लेकर की, जिसमें उगाही की क्लास का पूरा किस्सा रिकॉर्ड हो गया था। दैनिक जागरण ने यह खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी।

दरअसल, मंगलवार को एक ऑडियो वायरल हुआ था। किस तरह क्षेत्र में अवैध धंधे करने वालों से वसूली की जाती है और एआरटीओ और खनन विभाग को आगे रखकर कैसे दबाव बनाया जाता है, इसी का पाठ इस ऑडियो में पढ़ाया जा रहा था। यह सबक कोई और नहीं बल्कि थाने के इंचार्ज मणि शंकर तिवारी अपने दारोगाओं को दे रहे थे। तभी उन्हीं दारोगाओं में से किसी ने यह पूरी बात अपने मोबाइल में रिकॉर्ड कर ली और फिर उसे वायरल कर दिया। ऑडियो मीडिया के हाथ लगा तो पूरे जिले में फैल गया।

पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगाई को भी इसकी जानकारी हुई। जिस पर वे खासा नाराज हुए। यही नहीं एसपी ने मंगलवार की देर रात ही थानाध्यक्ष मणि शंकर तिवारी को निलंबित कर दिया था। हालांकि, अभी उनकी जगह पर किसी दूसरे इंचार्ज की तैनाती नहीं हुई है। अब इस पूरे मामले की जांच सीओ लालगंज को सौंपी गई है। जांच के बाद मणि शंकर तिवारी के खिलाफ अग्रिम विभागीय कार्रवाई होगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021