रायबरेली : मौसम लगातार बदल रहा है। रात में तेज हवाओं के साथ ही बूंदाबांदी हुई। इस दौरान कहीं पर बादल गरजे तो कहीं बारिश हुई। वहीं सुबह आसमान साफ हो गया। दिन में ही तेज धूप से लोगों को पसीना छूट गया। हाल यह रहा कि लोग छांव तलाशते रहे। इस दौरान तापमान में 40 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच गया।

पिछले कुछ दिनों से गर्मी ने रौद्र रूप धारण कर लिया है। सुबह से ही तल्ख धूप निकलने लगती है। वहीं दिनभर पारा चढ़ा रहता है। बुधवार की देर शाम राहत मिली। आसमान में उमड़-घुमड़ के बादल आए तो लोगों ने राहत की सांस ली। इस दौरान बिजली चमकने के साथ ही कई जगह बारिश हुई। इस दौरान कई जगह पेड़ की डालियां टूट गई, लेकिन इससे कोई खास नुकसान नहीं हुआ। गुरुवार को सुबह मानो कुछ हुआ ही न हो। आसमान पूरी तरह से साफ रहा। 10 बजे पारा 30 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया।

मदद के लिए आगे आए लोग

भीषण गर्मी में सबसे अधिक परेशानी प्रवासियों को होती है। ऐसे में स्काउट गाइड की ओर से मामा चौराहे के निकट लगे प्याऊ हर किसी का प्यास बुझा रहा है। वहीं रायबरेली-लखनऊ हाईवे पर त्रिपुला चौराहे के निकट विभिन्न संगठनों की ओर से हर आने-जाने वाले को रोक-रोककर पानी पिलाया गया।

सूखने लगे ताल तलैया, पशुपालक परेशान

अभी प्रचंड गर्मी शुरू नहीं हुई है और ताल तलैया सूखने लगे हैं। हाल यह है कि वर्तमान में 50 प्रतिशत तालाब सूख चुके हैं। यहां पर पानी भरने की कोई व्यवस्था नहीं की गई। इसके चलते पशुपालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मवेशियों को प्यास बुझाने के लिए काफी दूर जाना पड़ता है। वहीं जंगली जानवर भी प्यास बुझाने के लिए भटकने को मजबूर हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस