रायबरेली : दो दिन की बंदी के बाद सोमवार को बाजार खुले तो लोग सड़कों पर निकल पड़े। यातायात पुलिस बिना किसी तैयारी के चौराहों पर ही डटी रही और चालान काटती रही। कचहरी रोड और सुपर मार्केट में दिनभर जाम की स्थिति बनी रही। ऐसे में वाहन सवारों को घंटों जूझना पड़ा।

सुबह के 10 बजे बारिश शुरू होने के बावजूद बड़ी संख्या में लोग खरीदारी के लिए निकले। शहर में कैनाल रोड को छोड़कर शहर के भीतर जाने वाला कोई भी ऐसा मार्ग नहीं रहा, जहां जाम न लगा हो। खासकर कचहरी रोड पर तो सुबह दस बजे से ही वाहन रेंगने शुरू हो गए।

जिला अस्पताल चौराहे के पास सुबह 11 बजे सड़क पर कार खड़ी करके कोई चला गया, उसके पीछे खोदाई की वजह से आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया। बाकी का काम जल्दबाजी में निकलने वाले बाइक सवारों ने पूरा कर दिया। करीब 15 मिनट तक आवागमन पूरी तरह ठप रहा। धीरे-धीरे वहां से वाहन छूटे तो डिग्री कॉलेज चौराहे की ओर जाम लगने लगा।

इस अव्यवस्था के लिए जितना जिम्मेदार यातायात पुलिस नजर आई, उतने ही दूसरे लोग। सड़क पर वाहन पार्क करके खरीदारी करने लोग चले गए और कुछ ही देर में वाहनों की कतारें लग गईं। इनमें सड़क पर चलने वाली कम और किनारे खड़ी गाड़ियां ज्यादा थीं। इन पर कार्रवाई के लिए भी अफसर आगे नहीं आए। नतीजतन शाम सात बजे तक लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। अतिक्रमण बड़ी वजह

गलत पार्किंग के साथ ही अतिक्रमण भी जाम की बड़ी वजह बन रहा है। सड़क की पटरियों पर ठेले और दुकान लगाने वालों की वजह से यातायात प्रभावित होता है। लोग सड़क पर खड़े होकर खरीदारी करने लगते हैं और जाम लगना शुरू हो जाता है। वर्जन,

यातायात व्यवस्था दुरुस्त रखना महत्वपूर्ण कार्य है। शहर के मुख्य मार्गों पर ट्रैफिक पुलिस बल तैनात किया जाएगा, ताकि आमजन को समस्या न हो। गलत पार्किंग करने वालों पर कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं।

श्लोक कुमार, पुलिस अधीक्षक

Edited By: Jagran